तिरुवाय्मोळि नूट्रन्दाधि (नूत्तन्दादि) – सरल व्याख्या – पाशुरम २१ – ३०

श्री: श्रीमते शठकोपाय नमः श्रीमते रामानुजाय नमः श्रीमत् वरवरमुनये नमः श्रृंखला << ११ – २० इक्कीसवाँ पाशुर् – (मुडियार् तिरुमलैयिल्…) इस पाशुरम् में, मामुनिगळ् आऴ्वार् के पासुरम् का अनुसरण कर रहे हैं और तिरुमलै (तिरुमालिरुञ्जोलै) में रहने वाले अऴगर् एम्पेरुमान् के सुंदर रूप का पूरी तरह से आनंद ले रहे हैं और दयापूर्वक इसे समझा … Read more

तिरुवाय्मोळि नूट्रन्दाधि (नूत्तन्दादि) – सरल व्याख्या – पाशुरम ११ – २०

श्री: श्रीमते शठकोपाय नमः श्रीमते रामानुजाय नमः श्रीमत् वरवरमुनये नमः श्रुंखला << १ – १० ग्यारहवां पाशुर – (वायुम तिरुमाल….) इस पाशुर में, श्रीवरवरमुनी स्वामीजी आळ्वार के पाशुरों काअनुसरण कर रहे हैं, जिसमें सभी प्राणियों को स्वयं के तरह पीड़ित मानते हैं और दयापूर्वक समझा रहे हैं। वायुम् तिरुमाल् मऱैय निर्क आऱ्ऱामैपोय् विन्जि मिक्क पुलम्बुदलाय् … Read more

तिरुवाय्मोळि नूट्रन्दाधि (नूत्तन्दादि) – सरल व्याख्या– पाशुरम १ – १०

।श्री: श्रीमते शठकोपाय नम: श्रीमते रामानुजाय नम: श्रीमत् वरवरमुनये नमः।। श्रुंखला पहला पाशुरम : (उयर्वे परन् पडि…) यहाँ, श्रीवरवरमुनि स्वामीजी आळ्वार के दिव्य शब्दों का अर्थसमझा रहे हैं , अर्थात् तिरुवाय्मोळि का यह पहला दशक, जो एम्पेरुमान की सर्वोच्चता को प्रकट करता है और जोनिर्देश देता है कि “परमेश्वर के दिव्य चरणों का आश्रय लेने … Read more

उपदेश रत्तिनमालै – सरल व्याख्या – पासुर ४ – ६

। ।श्री: श्रीमते शठकोपाय नम: श्रीमते रामानुजाय नम: श्रीमत् वरवरमुनये नमः। । उपदेश रत्तिनमालै << पासुर १ – ३ पासुर ४ चौथे पासुर में मामुनिगळ् ,आऴ्वार् जिस क्रम में अवतरित हुए, उस क्रम को बताया है | पोय्गैयार् भूतत्तार् पेयार् पुगऴ् मऴिसैअय्यन् अरुळ् माऱन् सेरलर् कोन् – तुय्य भट्टनादन् अन्बर् ताळ् दूळि नऱ्पाणन् नऱ्कलियन्ईदु इवर् … Read more

उपदेश रत्तिनमालै – सरल व्याख्या – पासुर १ – ३

। ।श्री: श्रीमते शठकोपाय नम: श्रीमते रामानुजाय नम: श्रीमत् वरवरमुनये नमः। । उपदेश रत्तिनमालै << तनियन् इस पासुर में मामुनिगळ् अपने आचार्य ( शिक्षक) को प्रणाम करते हैं, और स्पष्ट रूप से इस ग्रंथ को दया पूर्वक रचने के अपने उद्देश्य को बताते हैं।  एन्दै तिरुवाय्मोऴि पिळ्ळै इन्नरुळाल्वन्द उपदेस मार्गत्तैच् चिन्दै सेय्दुपिन्नवरुम् कऱ्क उपदेसमाय्प् पेसुगिन्ऱेन्मन्निय … Read more

उपदेश रत्तिनमालै – सरल व्याख्या – तनियन्

। ।श्री: श्रीमते शठकोपाय नम: श्रीमते रामानुजाय नम: श्रीमत् वरवरमुनये नमः। । उपदेश रत्तिनमालै मुन्नम् तिरुवाय्मोऴिप्पिळ्ळै ताम् उपदेसित्त नेर्तन्निन् पडियैत् तणवाद सोल् मणवाळ मुनि तन् अन्बुडन् सेय् उपदेस रत्तिन मालै तन्नैत्तन् नेञ्जु तन्निल् दरिप्पवर् ताळ्गळ् शरण् नमक्के यह तनियन् ( एक अकेली स्तुति) जो ग्रंथ में एक अंतर्दृष्टि प्रदान करता है, जो मामुनिगळ् के महत्वपूर्ण … Read more

उपदेश रत्तिनमालै – सरल व्याख्या

। ।श्री: श्रीमते शठकोपाय नम: श्रीमते रामानुजाय नम: श्रीमत् वरवरमुनये नमः। । अन्य प्रबंध उपदेश रत्तिनमालै एक अद्भुत तमिल ग्रंथ (दिव्य संरचना) है, जिसे दया पूर्वक हमारे मणवाळ मामुनिगळ द्वारा रचित किया गया है। जो “विशधवाक शिखामणि “(एक प्रभावशाली वाणी, और जो मुकुट में जडे आभूषण के समान हैं )। यह एक अद्भुत रचना है … Read more

तिरुवाय्मोळि नूट्रन्दादि (नूत्तन्दादि) – तनियन्

श्री: श्रीमते शठकोपाय नमः श्रीमते रामानुजाय नमः श्रीमत् वरवरमुनये नमः पूरी श्रृंखला तनियन् 1अल्लुम् पगलुम् अनुबविप्पार् तन्गळुक्कुच्चोल्लुम् पोरुळुम् तोगुत्तुरैत्तान् – नल्लमणवाळ मामुनिवन् माऱन् मऱैक्कुत्तणवा नूऱ्ऱन्दादि तान् जो लोग मीठे शब्दों और उनके अर्थों का आनंद लेने की इच्छा, हमेशा रात और दिन , रखते हैं, उनके लिए मणवळ मामुनिगळ् ने दयापूर्वक, तिरुवैमोझी का अर्थ , … Read more

तिरुवाय्मोऴि नूट्रन्दाधि (नूत्तन्दादि) – सरल व्याख्या

श्री: श्रीमते शठकोपाय नमः श्रीमते रामानुजाय नमः श्रीमत् वरवरमुनये नमः श्रीमन्नारायण ने नम्माऴ्वार् को उनके प्रति उत्तम ज्ञान और भक्ति का आशीर्वाद दिया।नम्माऴ्वार् की अपरिहार्य प्रवाह सेतिरुविरुत्तम, तिरुवासिरियम, पेरिय तिरुवन्दादी और तिरुवाय्मोऴि नामक चार अद्भुत प्रबंध बन गए। इनमें सेतिरुवाय्मोऴि को सामवेद का सार माना जाता है। तिरुवाय्मोऴि में उन सभी महत्वपूर्ण सिद्धांतों को शामिल … Read more

अमलनादिपिरान् – सरल व्याख्या

।।श्री: श्रीमते शठकोपाय नमः श्रीमते रामानुजाय नमः श्रीमत् वरवरमुनये नमः।। मुदलायीरम् श्री मणवाळ मामुनिगळ् स्वामीजी ने अपनी उपदेश रत्नमालै के दसवें पाशुर में अमलनादिपिरान् की महत्ता को बड़े ही सुन्दर ढंग से प्रस्तुत वर्णित किया है। कार्त्तिगैयिल् रोहिणि नाळ् काण्मिनिन्ऱु कासियिनीर्वाय्त्त पुगळ्प् पाणर् वन्दु उदिप्पाल् – आत्तियर्गळ्अन्बुडने तान् अमलन् आदिपिरान् कऱ्ऱदऱ् पिन्नन्गुडने कोण्डाडुम् नाळ्। अरे … Read more