तिरुवाय्मोऴि नूट्रन्दाधि (नूत्तन्दादि) – सरल व्याख्या

श्री: श्रीमते शठकोपाय नमः श्रीमते रामानुजाय नमः श्रीमत् वरवरमुनये नमः

श्रीमन्नारायण ने नम्माऴ्वार् को उनके प्रति उत्तम ज्ञान और भक्ति का आशीर्वाद दिया।नम्माऴ्वार् की अपरिहार्य प्रवाह से
तिरुविरुत्तम, तिरुवासिरियम, पेरिय तिरुवन्दादी और तिरुवाय्मोऴि नामक चार अद्भुत प्रबंध बन गए। इनमें से
तिरुवाय्मोऴि को सामवेद का सार माना जाता है। तिरुवाय्मोऴि में उन सभी महत्वपूर्ण सिद्धांतों को शामिल किया गया है
जिन्हें एक मुमुक्षु (मुक्ति साधक), अर्थात् अर्थ पंचकम द्वारा जाना जाता है। तिरुवाय्मोऴि के लिए नम्पिळ्ळै के ईडु
व्याख्यान में तिरुवाय्मोऴि के अर्थों को विस्तार से बताया गया है।

तिरुवाय्मोऴि नूत्तन्दादि एक अद्भुत प्रबंध है जिसकी रचना अळगिय मणवाळ मामुनिगळ् (श्रीवरवरमुनि स्वामीजी) ने
की है। यह एक अद्भुत रचना है जो कई प्रतिबंधों से बनी है जैसे:

  • कविता अंदाधि प्रकार की होनी चाहिए जिससे उसका पठन /सीखना सरल हो
  • इस प्रबंध के प्रत्येक पाशुरम में तिरुवाय्मोऴि के प्रत्येक दशक जैसा अर्थ ईडु व्याख्यान में बताया गया है |
  • प्रत्येक पाशुरम में नम्माऴ्वार् का दिव्य नाम और महिमा होनी चाहिए |

यह प्रबंध सबसे आनंददायक है और हम इस प्रबंध के लिए पिळ्ळै लोकम् जीयर् द्वारा दिए गए विस्तृत व्याख्यान की मदद से पाशुरमों के
सरल अर्थों का आनंद लेंगे।

अडियेन् रोमेश चंदर रामानुज दासन

आधार : http://divyaprabandham.koyil.org/index.php/2020/09/thiruvaimozhi-nurrandhadhi-simple/

संग्रहीत : http://divyaprabandham.koyil.org

प्रमेय (लक्ष्य) – http://koyil.org
प्रमाण (शास्त्र) – http://granthams.koyil.org
प्रमाता (आचार्य) – http://acharyas.koyil.org
श्रीवैष्णव शिक्षा/बालकों का पोर्टल – http://pillai.koyil.org

Leave a Comment