तिरुवाय्मोळि नूट्रन्दाधि (नूत्तन्दादि) – सरल व्याख्या – पाशुरम ११ – २०

श्री: श्रीमते शठकोपाय नमः श्रीमते रामानुजाय नमः श्रीमत् वरवरमुनये नमः

श्रुंखला

<< १ – १०

Mahavishnu-universes-2

ग्यारहवां पाशुर – (वायुम तिरुमाल….) इस पाशुर में, श्रीवरवरमुनी स्वामीजी आळ्वार के पाशुरों का
अनुसरण कर रहे हैं, जिसमें सभी प्राणियों को स्वयं के तरह पीड़ित मानते हैं और दयापूर्वक समझा रहे हैं।

वायुम् तिरुमाल् मऱैय निर्क आऱ्ऱामै
पोय् विन्जि मिक्क पुलम्बुदलाय् – आय
अऱियादवऱ्ऱोडु अणैन्दळुद माऱन्
सेऱिवारै नोक्कुम् तिणिन्दु

जैसे ही श्रीपति जो अपने भक्तों के पास जाते हैं, छिप जातें हैं , आळ्वार का दुःख बढ़ गया और वे अनियंत्रित
रोने की स्थिति में पहुँच गए| आळ्वार, उन चीजों को गले लगाया जो उनके दुःख को समज नहीं सकते
और रोए| ऐसे आळ्वार, भक्तों को अपनी कृपा दृष्टि निश्चित प्रदान करेंगे ।

बारहवां पाशुर – (तिण्णिदा माऱन्…) इस पाशुर में, श्रीवरवरमुनि स्वामीजी आळ्वार के पाशुरों का पालन करते हुए एम्पेरुमान के परतत्वता पर ध्यान देते हैं, जिसके बारे में संयोग से उनके अवतारों के माध्यं से विचार किया गया था, और दूसरों को भी यही निर्देश देते हैं, और दयापूर्वक इसे समझा रहे हैं।

तिण्णिदा माऱन् तिरुमाल् परत्तुवत्तै
नण्णि अवदारत्ते नन्गुरैत्त – वण्णमऱिन्दु
अऱ्ऱार्गळ् यावर् अवरडिक्के आन्गवर्पाल्
उऱ्ऱारै मेलिडादून्

जो लोग, आळ्वार पर पूर्ण रूप से समर्पित भक्तों के दिव्य चरणों के निकट जाते हैं, जो जानते हैं कि किस दृढ़ इरादे से आळ्वार भगवान के अवतारों के माध्यं से सर्वेश्वर की सर्वोच्चता के बारे में दया से बात की है, वे शारीरिक संबंध से अभिभूत नहीं होंगे।

तेरहवां पाशुर – (ऊनमऱवे वन्दु …) इस पाशुर में, श्रीवरवरमुनी स्वामीजी , आळ्वार के पाशुरों का पालन करते हुए साथियों की तलाश करते हैं , इस विषय का आनंद लेने के लिए जब एम्पेरुमान आळ्वार के साथ एकजुट होकर उन्हें “एकतत्वम” (एक ही वस्तु ) के रूप में देखते हैं, उस विषय को दयापूर्वक समझा रहें हैं |

ऊनमऱवे वन्दु उळ् कलन्द माल् इनिमै
आनदु अनुबवित्तऱ्काम् तुणैया – वानिल्
अडियार् कुळाम् कूड आसै उऱ्ऱ माऱन्
अडियारुडन् नेन्जे आडु

सर्वेश्वर, बिना किसी कमी के आए और आळ्वार के साथ घनिष्ठ रूप से जुड़े | आळ्वार, इस मिलन की मिठास का आनंद लेने के लिए ,अनुकूल साथी की इच्छा से परमपदम में, भक्तों की सभा में शामिल होना चाहते थे | हे हृदय ! तुम ऐसे आळ्वार के भक्तों के साथ रहने की इच्छा करो|

चौदहवाँ पाशुर – (आडि मगिळ् वानिल् …) इस पाशुर में, श्रीवरवरमुनी स्वामीजी आळ्वार के पाशुरों का
अनुसरण कर रहे हैं, एक लड़की की माँ के भाव में बोल रहे हैं जो भगवान और उनके भक्तों से अलग होने से पीड़ित
है, और श्रीवरवरमुनी स्वामीजी दयापूर्वक इसे समझा रहे हैं।

आडि मगिळ् वानिल् अडियार् कुळान्गळुडन्
कूडि इन्बम् एय्दाक् कुऱै अदनाल् – वाडि मिग
अन्बुऱ्ऱार् तन् निलैमै आय्न्दुरैक्क मोगित्तु
तुन्बुऱ्ऱान् माऱन् अन्दो

आळ्वार, दुखी होते हुए परमपदधाम में रहने वाले भक्तों के समूह के साथ मिलन का आनंद नहीं लेने के कारण
और उनके साथ खुशी में नहीं नाचने से बहुत शोकाकुल हुए ; वे भ्रमित हो गए और मधुरकवि आळ्वार व अन्य जो
उनके प्रति बहुत स्नेही थे, द्वारा उनका विश्लेषण और व्याख्या किए जाने का सामना करना पड़ा; अफसोस!

पन्द्रहवाँ पाशुर – (अन्दामत्तन्बाल् ….) इस पाशुर में मामुनिगल, आळ्वार के पाशुरों का
अनुसरण कर रहे हैं कि कैसे एम्पेरुमान अपने भक्तों के साथ [नित्यसूरी आयुध और आभरण के रूप में] पहुंचे
और उनके दुःख को समाप्त किया जिसे तिरुवायमोळि 2.4 “आडि आडि” में प्रकाशित किया गया था और
कृपा करके समझा रहें हैं।

अन्दामत्तन्बाल् अडियार्गळोडिऱैवन्
वन्दारत् तान् कलन्द वण्मैयिनाल् – सन्दाबम्
तीर्न्द सटकोपन् तिरुवडिक्के नेन्जमे
वाय्न्द अन्बै नाळतोरुम् वै

श्रीवैकुंठ की इच्छा के साथ सर्वेश्वर के आने के कारण आळ्वार के दुख दूर हो गए थे, नित्यसूरियों के साथ आयुध
और आभरण के रूप में, और उदारतापूर्वक आळ्वार के साथ अच्छी तरह से एक हो गए थे। हे हृदय! ऐसे
आळ्वार के दिव्य चरणों में हमेशा उपयुक्त भक्ति रखो।

सोलहवाँ पाशुर – (वैगुन्दन् वन्दु…) इस पाशुर में, श्रीवरवरमुनीगल ईश्वर को शांत करने के लिए आळ्वार
के पाशुरों का पालन कर रहे हैं क्योंकि ईश्वर अनावश्यक रूप से संदेह करते हैं “क्या होगा यदि आळ्वार, जो
मुझे तिरुवाय्मोळी 2.5.4 के द्वारा आनंदित होते हैं ‘अप्पोदैक्कप्पोदु एन अरावमुधम’ (मेरा अतृप्त अमृत, हर पल) , मुझे खुद को अयोग्य होने का दावा करने के लिए छोड़ दे? ” और उस विषय को दयापूर्वक समझा रहें हैं।

वैगुन्दन् वन्दु कलन्ददऱ्पिन् वाळ् माऱन्
सेय्गिन्ऱ नैच्चियत्तैच् चिन्दित्तु – नैगिन्ऱ
तन्मै तनैक् कण्डु उन्नैत्तान् विडेन् एन्ऱुरैक्क
वन्मै अडैन्दान् केसवन्

नित्य विभूति के मालिक सर्वेश्वर के आने और एकजुट होने के बाद, आळ्वार ने खुद को बनाए रखा, लेकिन
नैच्यानुसंधानम करना शुरू कर दिया; यह देखकर एम्पेरुमान चिंतित हो गए और रोने लगे; यह देखकर, आळ्वार ने दयापूर्वक उनसे कहा, “मैं तुम्हें नहीं छोड़ूंगा”, और तुरंत एम्पेरुमान शांत हो गए।

सत्रहवाँ पाशुर – (केसवनाल…) इस पाशुर में, श्रीवरवरमुनि आऴ्वार के पाशुरों का अनुसरण कर रहे हैं, जो
आनंदपूर्वक कह रहे हैं कि उनके पूर्वज और वंशज स्वयं आळ्वार के संबंध के कारण भगवान के प्रति दासता प्राप्त की है
और दयापूर्वक इसे समझा रहे हैं।

केसवनाल् एन् तमर्गळ् कीळ् मेल् एळु पिऱप्पुम्
देसु अडैन्दार् एन्ऱु सिऱन्दुरैत्त – वीसु पुगळ्
माऱन् मलरडिये मन्नुयिर्क्केल्लाम् उय्गैक्कु
आऱेन्ऱु नेन्जे अणै

हे हृदय! आळ्वार ने दयापूर्वक यह कहते हुए स्पष्ट रूप से समझाया कि “जो मुझसे संबंधित हैं, उनके साथ-
साथ जो उनसे संबंधित हैं, पिछली पीढ़ियों और बाद की पीढ़ियों में भी उन्होंने तेज प्राप्त किया”; उनकी
महिमा हर जगह फैल रही है; ऐसे आळ्वार के दिव्य चरण कमलों को सभ, शाश्वत आत्माओं के लिए मुक्ति
का साधन मानते हुए समर्पण करें ।

अठारहवाँ पाशुर – (अणैन्दवर्गळ्…) इस पाशुरम में श्रीवरवरमुनी स्वामीजी, आऴ्वार के पाशुरों का
अनुसरण कर रहे हैं जो एम्पेरुमान के मोक्ष प्रदत्वम (मुक्ति प्रदान करना) का निर्देश दे रहे हैं और दयापूर्वक
समझा रहे हैं।

अणैन्दवर्गळ् तम्मुडने आयन् अरुट्काळाम्
गुणन्दनैये कोण्डुलगैक् कूट्ट – इणन्गि मिग
मासिल् उपदेसम् सेय् माऱन् मलर् अडिये
वीसु पुगळ् एम्मा वीडु

आळ्वार ने कृपा करके नित्य संसारियों को नित्यसूरियों के साथ जोड़ने के लिए, जो सर्वेश्वर के पास जाते हैं
और उनकी सेवा करते हैं, उन्हें कृष्ण की दया का पात्र बनाने के लिए एम्पेरुमान के मोक्ष प्रदत्वम की
गुणवत्ता पर प्रकाश डालते हुए दोषरहित निर्देश दिया; ऐसे आळ्वार के दिव्य चरणकमल जिनकी महिमा
अच्छी तरह फैली हुई है, वे परम मुक्ति के धाम हैं।

उन्नीसवां पाशुर – (एम्मा वीडुम् वेण्डा…) इस पाशुरम में, श्रीवरवरमुनी स्वामीजी लक्ष्य निर्धारण के लिए
आळ्वार के पाशुरों का पालन कर रहे हैं और दयापूर्वक इसे समझा रहे हैं।

एम्मा वीडुम् वेण्डा एन्ऱन्क्कुन् ताळिणैये
अम्मा अमैयुम् एन आय्न्दुरैत्त – नम्मुडैय
वाळ् मुदला माऱन् मलर्त् ताळिणै सूडिक्
कीळ्मैयऱ्ऱु नेन्जे किळर्

हे हृदय! आळ्वार के दिव्य चरणकमलों को रखकर, जो हमारे भरण-पोषण के कारण हैं, जिन्होंने दयापूर्वक
कहा, “हे भगवान! आपकी महिमावान दिव्य चरणों का प्राप्त होना ही पर्याप्त है ”, हमारे सिर पर, बिना
किसी नीच परिणाम की इच्छा के, आप अधिक से अधिक उठेंगे।

बीसवां पाशुर – (किळरोळि सेर…) इस पाशुरम में, श्रीवरवरमुनि आऴ्वार के पाशुरों का पालन करते हुए
दूसरों को यह निर्देश देते हैं कि “तिरुमलै (पवित्र तिरुमालिरुन्शोल हाड़ी) की शरण लेना लक्ष्य का साधन है”
और दयापूर्वक इसे समझा रहे हैं। वैकल्पिक रूप से यह कहा जा सकता है कि श्रीवरवरमुनी स्वामीजी
समझा रहे हैं कि कैसे आऴ्वार तिरुमालिरुन्शोल को अंतिम लक्ष्य के रूप में आनंदित कर रहे हैं।

किळरोळि सेर् कीळुरैत्त पेऱु किडैक्क
वळरोळि माल् सोलै मलैक्के – तळर्वऱवे
नेन्जै वैत्तुच् चेरुमेनुम् नीडु पुगळ् माऱन् ताळ्
मुन् सेलुत्तुवोम् एम् मुडि

पहले बताए गए पुरुषार्थ को प्राप्त करने के लिए, जिसमें तेज है, आळ्वार ने दयापूर्वक तिरुमालिरुन्शोल तक
पहुंचने के लिए कहा, जो एम्पेरुमान का निवास है, जिसमें हमारे हृदय से, बिना थके, बढ़ती हुई चमक है; हम
अपना मस्तक परम प्रतापी आळ्वार के दिव्य चरणों के सामने रखेंगे।

अडियेन् रोमेश चंदर रामानुज दासन

आधार : http://divyaprabandham.koyil.org/index.php/2020/10/thiruvaimozhi-nurrandhadhi-11-
20-simple/

संग्रहीत : http://divyaprabandham.koyil.org

प्रमेय (लक्ष्य) – http://koyil.org
प्रमाण (शास्त्र) – http://granthams.koyil.org
प्रमाता (आचार्य) – http://acharyas.koyil.org
श्रीवैष्णव शिक्षा/बालकों का पोर्टल – http://pillai.koyil.org

Leave a Comment