पूर्वदिनचर्या – श्लोक – २३

श्री:
श्रीमते शठकोपाय नमः
श्रीमते रामानुजाय नमः
श्रीमद्वरवर मुनये नमः

परिचय

श्लोक २२                                                                                                     श्लोक २४

श्लोक २३

महति श्रीमति द्वारे गोपुरं चतुराननम्
प्रणिपत्य शनैरन्तः प्रविशिन्तं भजामि तम् २३

शब्दार्थ
श्रीमति                    – पर्याप्त मात्रा मे धनसंपत्ति,
महति                      – ज़्यादा विशाल / विस्तीर्ण,
द्वारे                       – मन्दिर के दुर्ग के मार्ग पर,
चतुराननम् गोपुरम्  – नान्मुगन मन्दिर का दुर्ग (गोपुर),
प्रणिपत्य                 – मनसा, वाचा, कर्मणा ( मन, वाक, कर्म) से अर्चित (प्रणिपात करते हुए) ,
शनैः                       – धीरे धीरे (उन दिव्य आंखों को नम्रतापूर्वक घुमाते है जो इस दिव्य भव्य मन्दिर के दुर्ग की सुन्दरता                                 का आनन्द लिये),
प्रविशन्तम्             – प्रवेश करते है ,
तम्                       – ऐसे वरवरमुनि,
भजामि                  – की पूजा करता हूँ  |

भावार्थ (टिप्पणि) –

यहाँ श्रीमति और महति दोनो शब्द प्रसिद्ध नान्मुगन मन्दिर के प्रवेश द्वार की विशेषता और परिशिष्टता को व्यक्त करते है । इसी द्वार से प्रवेश कर, ब्रम्हा और अन्य देवतान्तर विशेष धन-संपत्ति को प्राप्त करते है । हलांकि भगवान श्रीरंगनाथ के भक्तों की भीड के बावज़ूद वहाँ इतना जगह अश्वय है जिसका प्रयोग किया जा सकता है । यह उस जगह की विशालता को दर्शाता है । इस दुर्ग का नाम चतुराननम् – नान्मुगन गोपुर है । प्रणिपत्य शब्द दण्डवत प्रणाम की विचार धारणा, उच्च स्वर मे बोलना, और शारीरिक रूप से दण्डवत प्रणाम करना (मन, वाक, कर्म से दण्डवत प्रणाम) को दर्शाता है ।

archived in http://divyaprabandham.koyil.org
pramEyam (goal) – http://koyil.org
pramANam (scriptures) – http://srivaishnavagranthams.wordpress.com
pramAthA (preceptors) – http://acharyas.koyil.org
srIvaishNava education/kids portal – http://pillai.koyil.org

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *