Daily Archives: July 19, 2015

thiruvAimozhi – 1.4.5 – nalgith thAn

Published by:

srI:
srImathE satakOpAya nama:
srImathE rAmAnujAya nama:
srImath varavaramunayE nama:

Full series >> First Centum >> Fourth decad

Previous pAsuram

bhagavan

Introduction for this pAsuram

Highlights from thirukkurukaippirAn piLLAn‘s introduction

No specific introduction.

Highlights from nanjIyar‘s introduction

parAngusa nAyagi requests a few kurugu (heron/stork/pelican) birds to relay back emperumAn‘s reply after telling him that if he does not protect her, his nArAyaNathvam which includes protecting everyone will become questionable.

Highlights from vAdhi kEsari azhagiya maNavALa jIyar‘s introduction

Subsequently, parAngusa nAyagi requests a young kurugu which has a small body which makes it easy to travel (far), to go to emperumAn who is sarvarakhsakan (protector of all) to inform about her.

Highlights from periyavAchchAn piLLai‘s introduction

Similar to nampiLLai‘s introduction.

Highlights from nampiLLai‘s introduction as documented by vadakkuth thiruvIdhip piLLai

parAngusa nAyagi says (to emperumAn) “Forget about us who are going to die any way; But you are trying to live  – Don’t you want to save yourself?” She tells (the kurugu) to inform emperumAn to preserve his title of nArAyaNathvam (being the protector of all).

pAsuram

நல்கித் தான் காத்தளிக்கும் பொழிலேழும் வினையேற்கே,
நல்கத் தான் ஆகாதொ? நாரணனைக் கண்டக்கால்
மல்கு நீர்ப் புனல் படப்பை இரை தேர் வண் சிறு குருகே.
மல்கு நீர்க் கண்ணேற்கோர் வாசகம் கொண்டு அருளாயே

nalgith thAn kAththaLikkum pozhilEzhum vinaiyERkE
nalgath thAn AgAdhO nAraNanaik kaNdakkAl
malgu nIrp punal padappai irai thEr vaN siRu kurugE
malgu nIrk kaNNERkOr vAsagam koNdu aruLAyE

Word-by-Word meanings (based on vAdhi kEsari azhagiya maNavALa jIyar‘s 12000 padi)

pozhil Ezhum – seven worlds
nalgi – being desirous without their seeking out for their well-being
thAn – without their expecting his help
kAththu – removing their hurdles
aLikkum – fulfilling their desires
thAn – him
vinaiyERkEyO – for me who is very sinful
nalgal AgAdhu – being indifferent
nAraNanai – nArAyaNan who has exclusive relationship with everyone to protect everyone
kaNdakkAl – on seeing him
malgum – flowing abundantly
nIr – having the nature
punal – having water
padappai – gardens
irai – prey
thEr – searching for
vaN siRu kurugE – pleasing to the eyes and young kurugu
malgum – abundant
nIr – having tears
kaNNERku – me who is having (teary) eyes
Or vAsagam – a sentence (a message)
koNdu – taking from me
aruLAy – help me by informing him

Simple transalation (based on vAdhi kEsari azhagiya maNavALa jIyar‘s 12000 padi)

Oh young kurugu who searches for prey in gardens which have abundance of water and who is pleasing to eyes! When you see emperumAn who has exclusive relationship with everyone to protect everyone and who with great desire himself removes the hurdles and fulfills the desires of the (people in the) worlds without their expecting so, you give him the message taken from me who is with tearful eyes. nArAyaNan indicates antharyAmithvam (being the in-dwelling super-soul of everyone) and samudhrasAyithvam (lying down in the causal ocean). As said in thiruvAimozhi 8.10.3 “siRu mA manisar” (AchAryas with small form but great characteristics), AchAryas forms being small is highlighted.

vyAkyAnams (commentaries)

Highlights from thirukkurukaippirAn piLLAn‘s vyAkyAnam

AzhwAr says to some kurugus to inform emperumAnbhagavAn who is most merciful, forgives the offenses of all jIvAthmAs, removes what is unfavourable for them and protects them in a friendly manner. Why can’t he forgive my mistakes and accept me and mingle with me?” and requests them to get the response from him.

Highlights from nanjIyar‘s vyAkyAnam

Similar to piLLAn‘s vyAkyAnam.

Highlights from periyavAchchAn piLLai‘s vyAkyAnam

Similar to nampiLLai‘s vyAkyAnam.

Highlights from nampiLLai‘s vyAkyAnam as documented by vadakkuth thiruvIdhip piLLai

  • nalgi – While protecting his vibhUthi (wealth), instead of doing it as a duty, he does it as a desirable result for himself. Just like I have so much attachment towards emperumAn, he has so much attachment towards his subjects.
  • thAn – without their expecting, he himself is going and protecting them.
  • pozhil Ezhum – pozhil generally means bhUmi. Here it is indicates all fourteen layers where the seventh layer from the top-down is Earth. It can also indicate Earth which has seven islands.
  • nalgiththAn kAththaLikkum …nalgi – Since all of these worlds are considered as emperumAn‘s body, just like one will take care of his body with great desire, emperumAn too takes care of these worlds with great care. nalgi means snEham (with desire) as well as srushti (creation). When the entire creation was in subtle state, who requested him to transform it to gross/manifested state (these worlds etc)? It was out of his own desire he does these. “kAththu” and “aLikkum” both mean protection – these are explained in context of the two meanings of nalgi.
    • When nalgi is considered as snEham – kAththu means anishta nivruththi (removing the unfavourable aspects) and aLikkum means ishta prApthi (fulfilling the favourable aspects).
    • When nalgi is considered as srushti – After creating the worlds, emperumAn sustains them and also consumes them in the end to protect them safely. Here kAththu means samhAram (where he protects everything by absorbing them within himself) and aLikkum means sthithi (sustenance).
  • vinaiyERkE nalgaththAnAgAdhO – (nalgi – srushti) When the worlds were not present (they were in subtle state), you created them. But after creating, we start accumulating karma (good and bad) – should you give up on us citing such karma? (nalgi – snEham) Should you not protect your dependents? When you are protecting everyone, why not protect your spouse (me) as well?
  • nAraNanaik kaNdakkAl – He is the ultimate controller of the existence etc., of all jIvAthmAs. He is the prakAri (substratum) and everything else is prakAram (attributes/forms). Even if one AthmA is not protected, it is a loss to him. This is the meaning of the title “nArAyaNa”. Go and ask him “We thought this name referred to you as per yaugika (etymological meaning) as well as rUdi (general prevalence) meanings. But, is this like cactus having the name ‘mahAvruksha’ (great tree – when it is really neither huge nor useful)?” [The name nArAyaNa is asAdhAraNa (most-distinct) and is only applicable for srIman nArAyaNan or vishNu – no other dhEvathA can claim that name, because only emperumAn fulfills both yaugika and rUdi principles. For example: mahEshwara indicates rudhran by rUdi (general prevalence), but srIman nArAyaNan by yaugika (etymological meaning) since he is the only supreme controller].
  • malgu nIr punal padappai – garden having abundance of water. your action is for the benefit of others…
  • irai thEr – Searching for a prey that is suitable for the female companion. Like it is said in periya thirumozhi 5.1.2 “puLLup piLLaikku irai thEdum” (searching for fish to feed the hatchling) – though big fish are passing by, its waiting for small fish that will fit in the hatchling’s mouth.
  • vaN siRu kurugE – kurugu is vaNdAnam or koyyadinArai (types of stork). vaNmai – beauty, generosity. You are generous unlike emperumAn who is feasting (enjoying) while I am starving (suffering) here in separation. Hopefully, your are not like him.
  • malgu nIrk kaNNERku – My eyes are also filled with water (tears) and they look like beautiful fish (which attract storks). Teary eyes is parAngusa nAyagi‘s identity it seems. While being together, her eyes are filled with joyful tears and in separation they are filled with sorrowful tears.
  • Or vAsagam koNdu – Just pass my message to him. parAngusa nAyagi is fearful of emperumAn rejecting her. But she just wants a reply from him – whether it is yes or no. In siRiya thirumadal, thirumangai AzhwAr says “thArAn tharum enRu iraNdaththil onRadhanai” (he will say yes or no – either way). ANdAL says in nAchchiyAr thirumozhi 13.9 “meymmai solli mugam nOkki vidaidhAn tharumEl miga nanRu” (Even if he looks at me and says “I dont want you”, that is very much acceptable – at least at that time he will look at me and I will try to convince him in other ways). nammAzhwAr himself says in thiruvAimozhi 4.7.3 “pAvi nI enRu onRu sollAy” (Even if you accuse me as a sinner – just open your mouth and speak to me something).
  • aruLAyE – bless me – When she considers herself as sIthA pirAtti, these birds as her messenger and the result they bring is bhagavath vishayam, then she has to speak to these birds respectfully.  bhattar was informed “nambi ERuthiruvudaiyAn dhAsar thirunAttukku nadandhAr” (nambi ERuthiruvudaiyAn dhAsar left/walked to paramapadham). He was startled and then replied “avar srIvaishNavargaLudan parimARumpadikku, thirunAttukku ezhundharuLinAr ennavENum kAN” (for the way he interacted with other srIvaishNavas, you should say ‘he ascended to paramapadham’ in a venerable way) [srIvaishNavas should speak to other srIvaishNavas with great respect/reverence irrespective of their age, birth, wealth, intelligence etc].

In the next article we will enjoy the next pAsuram.

adiyen sarathy ramanuja dasan

archived in http://divyaprabandham.koyil.org

pramEyam (goal) – http://koyil.org
pramANam (scriptures) – http://srivaishnavagranthams.wordpress.com
pramAthA (preceptors) – http://acharyas.koyil.org
srIvaishNava education/kids portal – http://pillai.koyil.org

ज्ञान सारं – पासुर (श्लोक) ३०

Published by:

श्री:
श्रीमते शठकोपाय नम:
श्रीमते रामानुजाय नम:
श्रीमत् वरवरमुनये नम:

ज्ञान सारं

ज्ञान सारं – पासुर (श्लोक) २९                                                      ज्ञान सारं – पासुर (श्लोक) ३१

पाशुर-३०

ramanuj

 माडुम मनैयुम मरै मुनिवर
तेडुम उयर वीडुम सेन्नेरियुम
पीडुडैय एट्टेलु त्तम तन्दवने एन्रि रादार उरवै
विट्टिडुगै कण्डीर विदि

 प्रस्तावना: इस पाशुर में श्रीदेवराज मुनि स्वामीजी शास्त्र कि एक बात समझाते हैं कि हमें किसी भी तरह के लोगों से कैसे रिश्ता रखना चाहिये यह निश्चित करना चाहिए। यह वें लोग हैं जो यह विचार भी नहीं करते हैं कि जो धन उन्होंने अपने जीवन के लिये जोड़ा हैं, वह अपने भविष्य के लिये और वह कुछ नहीं बल्कि अपने आचार्य द्वारा बताया हुआ आठ अक्षरों वाला अष्टाक्षरमन्त्र (मूलमंत्र) (तिरुमन्त्र) हैं।

 अर्थ:

माडुम: गाय जो दूध उत्पन्न करती हैं, | मनैयुम: घर जो खुशियाँ का पालन पोषण करता हैं,

किलयुं: सम्बन्धी | मरै मुनिवर तेडुम: वह जो साधु माँगते हैं वह और कुछ नहीं परन्तु

उयर वीडुम: बस एकहीं परमपदधाम हैं और अन्त में | सेन्नेरियुम: श्रेष्ठ मार्ग (अर्चिरादिक) जो हमें सबसे निराला परमपदधाम पहुँचाता हैं, यह उपर बताई गयी बातें और कुछ नहीं बल्कि | तन्दवने: प्रत्येक के आचार्य हैं जिन्होंने यह मतलब बताया | पीडुडैय: विशेष

एट्टेलु त्तम: अष्टाक्षरमन्त्र (मूलमंत्र) यानि “तिरुमन्त्र”| एन्रि रादार: लोग यह विचार करते हैं उपर कि हुई बातें और कुछ नहीं बल्कि उनके आचार्य कि | उरवै: हमारा उनके साथ सम्बन्ध किसी भी तरह ऐसा होना चाहिये कि | विट्टिडुगै: किसी भी लक्षण के सिवाये त्यागना।

विदि: यह शास्त्र का एक आदेश हैं | कण्डीर: कृपया इस आज्ञा को देखिये और इसके महत्त्व को समझिये।

 

स्पष्टीकरण:

माडुम: “माडु” गय्यों को दर्शाता हैं। यहाँ श्रीदेवराज मुनि स्वामीजी यह समझाते हैं कि गाय वह हैं जो बहुत अधिक मात्रा में स्वादिष्ट दूध, दही और पौष्टीक वस्तुएं देती हैं। वह इतने बहुमूल्य वस्तुएं देने कि वजह से गाय को धनकोष किया जाता हैं और अपने आप में ही उसे धन भी मानते हैं। बहुत सी गाय होने का सीधा साधा मतलब हैं कि वह धनवान हैं।

मनैयुम: एक घर जो किसी एक के जीवन में पूरी खुशी का स्त्रोत / नींव की तरह निभाता हैं।

किलयुं: यह उन सम्बन्धीयों को शामील करता हैं जो यह सोचते हैं कि आनन्द और भाग्यवान होने के लिये एक होकर रहना हैं। जीवन के पोषण और खुशी के लिये तीन वस्तु गाय, घर और सम्बन्धी कि जरूरत हैं।

मरै मुनिवर: वेद में साधु हीं अधिकारी हैं। ये वों हैं जो भगवान श्रीमन्नारायण के बारें अपने चित्त और हृदय में निरन्तर सोचते रहते हैं।

तेडुम उयर वीडुम: खोजने कि क्रिया को “तेडु” कहते हैं और इसलिए “तेडुम उयर वीडुम” का अर्थ हैं परमपदधाम जो कि खोजा गया और अनुसंधान किया गया और वह अंतिम जगह जहाँ कोई भी जा सकता हैं। क्योंकि “उयर” का अर्थ “उच्च” हैं “उयर वीडुम” यह समझाता हैं कि वहाँ एक और “न्यूनतम” वस्तु हैं । यह और कुछ नहीं “कैवल्यं” जो और कुछ नहीं अपने ही आत्मा का सदैव के लिये आनन्द उठाना और परमात्मा के आनन्द को नाकारना है। हमारे पूर्वाचार्य इस तरह के “कैवल्यं” को छोटा मानते हैं। क्योंकि यह ऐसा हैं जिसे छोड़ना ही पड़ेगा इसीलिए स्वामीजी श्री देवराज मुनि परमपदधाम को कैवल्यं से भेद करने के लिये विशेषण पद “उयर” (उच्च) वीडुम पद के सामने इस्तेमाल करते हैं और परमपदधाम को दर्शाते हैं। क्योंकि “सिरुवीड़ुम” का अर्थ कैवल्यं हैं और सभी अनिश्चयता को साफ करने के लिये विशेषण पद “उयर” को “वीडुम” पद के सामने लगाया गया हैं।

सेन्नेरियुम: जब कोई आत्मा भगवान के परमपदधाम पहुँच जाता हैं उसका अर्थ यह हैं कि उसको मोक्ष प्राप्त हो गया या वह मुक्त हो गया हैं। “परमपदधाम” जाने की राह तो “अर्चिरादि” हीं हैं। यह राह लक्ष्य की तरह हीं महान हैं। और दूसरे शब्दों में “सेन्नरि” खुद भगवान श्रीमन्नारायण के पास जाने के दूसरे साधनों को भी शामील कर सकता हैं। प्रपन्नों (वह जिसने शरणागति कर ली हो) के इसमें खुद श्रीमन्नारायण हीं जरिया हैं।

पीडुडैय एट्टेलु त्तम तन्दवने एन्रि रादार उरवै: “उरवै” एक सम्बन्ध हैं। यहाँ श्रीदेवराज मुनि स्वामीजी कुछ खास लोगों से सम्बन्ध के बारें में बात कर रहे हैं। ये लोग यह बात नहीं जान सकते हैं कि जिन गुरू ने उन्हें अष्टाक्षर मन्त्र बताया हैं वें हीं उनके लिये सब कुछ हैं। जो एक व्यक्ति दूसरों को सुख देते समय असल में गाय, घर और संबंधी सभी सांसारिक दुखो को पाया हैं। यह सभी दुखों का एक ही औषधी हैं आठ अक्षरोंवाला अष्टाक्षर मन्त्र जिसे “तिरुमन्त्रं” कहते हैं जो हमें यह सिखाता हैं कि सभी वस्तु का लाभ सांसारिक और स्वर्गीय हैं। तिरुमन्त्र हमें सबसे उच्च भगवान श्रीमन्नारायण के तिरुमाली जाने की राह भी बतायेगी। ऐसे तिरुमन्त्रं को तो हर एक के आचार्य हीं सीखा सकते हैं। अगर किसी व्यक्ति का किसी ऐसे व्यक्ति के साथ सम्बन्ध हो जो यह समझ नहीं सकता हैं कि सबकुछ आचार्य हीं हैं जिन्होंने हमें तिरुमन्त्रं सिखाया हैं तो शास्त्र के अनुसार ऐसे व्यक्ति के साथ सम्बन्ध तुरन्त छोड़ देना चाहिये।

विट्टिडुगै: एक कण भी शंका या सवाल रखते हुए उसे छोड़ा देना चाहिये।

विदि: यह शास्त्र कि आज्ञा हैं।

कण्डीर: आपको यह मालुम रहने दो!!! आप यह सच्चाई देख लीजिये!!! आप इसे पा लीजिये और समझ लीजिये!!! अत: किसी को भी ऐसे लोगों से सम्बन्ध नहीं रखना चाहिये जिसने अपने आचार्य से सम्बन्ध नहीं रखा हो। वह एक हीं क्षण में ऐसे लोगों से रिश्ता तोड़ देना चाहिये।

हिन्दी अनुवादक – केशव रामानुज दासन्

Source: http://divyaprabandham.koyil.org/index.php/2015/02/gyana-saram-30-madum-manayum/

archived in http://divyaprabandham.koyil.org

pramEyam (goal) – http://koyil.org
pramANam (scriptures) – http://srivaishnavagranthams.wordpress.com
pramAthA (preceptors) – http://acharyas.koyil.org
srIvaishNava education/kids portal – http://pillai.koyil.org

ज्ञान सारं – पासुर (श्लोक) २९

Published by:

श्री:
श्रीमते शठकोपाय नम:
श्रीमते रामानुजाय नम:
श्रीमत् वरवरमुनये नम:

ज्ञान सारं

ज्ञान सारं – पासुर (श्लोक) २८                                                          ज्ञान सारं – पासुर (श्लोक) ३०

पाशुर-२९

lakshmi_narayan_py94_l

 

“मन्दिरमुम ईन्द गुरूवुम अम्मन्दिरत्ताल
सिन्दनै सैय्गिन्र तिरूमालुम – नन्दल इलादु
एन्रु अरूल परिवर यावर अवर इडरै
वेन्रु कडिदडैवर वीडु

सारांश :

यह पाशुर यह समझाता हैं कि कुछ गुणों के साथ लोगों का एक समुह हैं और यह सब लोग इस संसार बन्धन से छुट जायेंगे। इन लोगों का यह गुण हैं कि उन्हें आठ अक्षरों वालें मूलमंत्र (तिरुमन्त्र) पर पूर्ण विश्वास हैं और जिन्होंने उन्हें यह मूलमंत्र दिया हैं उन आचार्य पर उन्हें पूर्ण विश्वास हैं और उनका यह मत हैं कि मूलमंत्र “भगवान श्रीमन्नारायण” को ही समझाता हैं।

अर्थ:

मन्दिरमुम: मूलमंत्र (तिरुमन्त्र) | ईन्द गुरूवुम: आचार्य जिन्होंने सभी लोगों को मूलमंत्र (तिरुमन्त्र) दिया और | अम्मन्दिरत्ताल: मूलमंत्र का उद्देश / प्रेम | सिन्दनै सैय्गिन्र: जो बचाव करता हैं | नन्दल इलादु: लगातार / नित्य | तिरूमालुम: जो और कोई नहीं भगवान श्रीमन्नारायण हीं हैं | एन्रु: लोग जो इन तीनों के बारें में सोचते हैं वह हमेशा के लिये | अरूल परिवर: भगवान के सन्मुख हीं रहेंगे | यावर: ऐसे लोग | अवर: और ऐसे हीं लोग| इडरै वेन्रु: इस सांसारिक लड़ाई को जीत सकते हैं और | कडिद: जल्दी और | डैवर वीडु: भगवान श्रीमन्नारायण के तिरुमाली पहुँच जाते हैं जो कि परमपद हैं |

स्पष्टीकरण:

मन्दिरमुम: मन्त्र वह हैं जो इसे ना की निरन्तर कहता हैं परंतु उसके प्रति पूर्ण भाव रखता है उसकी रक्षा करता हैं । यहाँ “मन्त्र” को आठ अक्षरों वाले “मूलमंत्र” (तिरुमन्त्र) को दर्शाया गया हैं। तिरुमझिसै पिरान कहते “एत्तेझुतुम ओधुवार्गल वल्लार वानं आलवे।

ईन्द गुरूवुम: आचार्य जिन्होंने हमें मूलमंत्र (तिरुमन्त्र) दिया और सिखाया।

अम्मन्दिरत्ताल सिन्दनै सैय्गिन्र तिरूमालुम: व्यक्ति जिन्होंने यह तिरुमन्त्र दिया वह और कोई नहीं भगवान श्रीमन्नारायण हीं हैं।

नन्दल इलादु: “नन्दुधल” किसी को रोकना / तोड़ना यह दर्शाता हैं। अत: नन्दल इलादु यानि नित्य हैं।

एन्रु अरूल परिवर यावर: वह व्यक्ति जो उपर बताया हुआ “मूलमंत्र” (तिरुमन्त्र) को लेने वाला हैं, आचार्य जिन्होंने यह सिखाया हैं और तिरुमन्त्र का उद्देश और कुछ नहीं वह हीं भगवान श्रीमन्नारायण हैं।

अवर इडरै वेन्रु कडिदडैवर वीडु: वह व्यक्ति इस संसार बंधन से छुट जायेगा और उस स्थान पर जायेगा जहां हमेशा के लिये खुशी हैं जो और कुछ नहीं भगवान श्रीमन्नारायण कि तिरुमाली हैं। इस मोड पर मुमुक्षुपडि का सूत्र पढने के लिये बहुत सुन्दर हैं “मंतिरतिलुम मंतिरतुक्कू उल्लेदाना वस्तुविलुम मंतिर प्रधानां आचार्यं पक्कलिलुं प्रेमं गणक्का उंदानाल कार्य कर्मावधु”।

हिन्दी अनुवादक – केशव रामानुज दासन्

Source: http://divyaprabandham.koyil.org/index.php/2015/02/gyana-saram-29-mandhiramum-endha/
archived in http://divyaprabandham.koyil.org
pramEyam (goal) – http://koyil.org
pramANam (scriptures) – http://srivaishnavagranthams.wordpress.com
pramAthA (preceptors) – http://acharyas.koyil.org
srIvaishNava education/kids portal – http://pillai.koyil.org

ज्ञान सारं – पासुर (श्लोक) २८

Published by:

श्री:
श्रीमते शठकोपाय नम:
श्रीमते रामानुजाय नम:
श्रीमत् वरवरमुनये नम:

ज्ञान सारं

ज्ञान सारं – पासुर (श्लोक) २७                                                        ज्ञान सारं – पासुर (श्लोक) २९

पाशुर-२८ 

10527557_834046386613354_7891795563582297209_n

शरणागति मट्रोर् सादनत्तैप पर्रिल
अरण आगादु अञ्जनै तन सेयै
मुरण अलियक कट्टियदु वेरोर कयिरु कोण्डु आर्पदन मुन
विट्ट पडै पोल विडुम

सारांश

पिछले पाशुर “तप्पिल गुरू अरूलाल” में स्वामीजी श्री देवराज मुनि ने अपने आचार्य द्वारा बताई गयी “शरणगति” का अर्थ समझ पाये हैं उनके बारे में बतलाया हैं। वह कहते हैं कि ऐसे लोग निश्चित हीं परमपद पहुँचेंगे। उसके अगले पाशुर “नेरि अरियादारूम” में जो लोग अपने आचार्य द्वारा बताया हुआ शरणागति का अर्थ नहीं समझ सके और जिन्हें भगवान कृष्ण द्वारा हीं उपदेश करने पर भी शरणगति पर थोड़ा भी विश्वास नहीं हैं उनके बारे में बताया हैं। उन्होंने यह कह कर समाप्त किया कि ऐसे लोगों को कभी भी परमपद नहीं मिलेगा। इस पाशुर में शरणागति की कुछ सत्य बातें बताई हैं। शरणागति कुछ और नहीं परन्तु भगवान के चरण कमलों के शरण होना हैं और “केवल आपके चरण कमल हीं मेरे उपाय हैं। मेरे पास और कोई दूसरी राह नहीं हैं”। शरणागति के कुछ अर्थ २३वें पाशुर में भी बताये गये थे (ऊलि विनैक कुरूम्बर)। अगर किसी के मन में यह अस्थिर बात आ जाती हैं कि केवल भगवान के चरण कमलों के शरण होने से हमें मोक्ष प्राप्त हो जायेगा या कुछ पुण्य काम करना पड़ेगा तो भगवान श्रीमन्नारायण उसे शरणागति नहीं देंगे जो उन्होंने उसे पहिले दिया था। उसकी शरणागति व्यर्थ हो जायेगी। शरणागति के इस सुन्दर बात को इस पाशुर में समझाया गया हैं।

अर्थ:

सरणागति: शरणागति जो कि भगवान श्रीमन्नारायण के पूर्ण तरह से उनके चरणों के शरण होना। उसके कुछ लक्षण हैं  जैसे | ट्रोर् सादनत्तैप: अगर कोई व्यक्ति शरणागति में विश्वास खो जाने के पश्चात अपने आप को दूसरे कार्य में लगाता हैं | पर्रिल: अगर वह इसे कार्य समझता हैं जो उसे अच्छा कर्म प्रधान करेगी | अरण आगादु: उसके पश्चात वह शरणागति जो इस व्यक्ति ने कि हैं उसे बचा नहीं सकती बल्कि उसके और उसके शरणागति के कार्य को निश्फल बना देगी | अञ्जनै तन सेयै: यह उसी तरह हैं कि हनुमानजी अंजाना देवी के पुत्र हैं | मुरण अलियक: उनके बड़े सहास से हीं नष्ट हो गये | कट्टियदु: और रावण के पुत्र राक्षस इंद्रजीत के ब्रम्हास्त्र से बन्ध गये थे। वेरोर कयिरु कोण्डु: इंद्रजीत ने ब्रम्हास्त्र पर विश्वास नहीं किया और उन्हें तुच्छ रस्सीयों से बांधने लगा और ब्रम्हास्त्र के योग्यता पर भरोसा न रहा | र्पदन मुन: जिसने ब्रम्हास्त्र को एक ही क्षण में अपने आप ही खोल दिया |

विट्ट पडै पोल: उसी तरह जैसे ब्रम्हास्त्र ने हनुमानजी को छुटकारा दिया | विडुम: शरणागति किसी को कभी मुक्त नहीं करेगी बल्कि उसे पूरी तरह निश्फल कर देगी

स्पष्टीकरण:

शरणागति: भगवान श्रीमन्नारायण के शरण होने के लिए शास्त्र में कई अच्छी राह और कर्म बताये हैं। उसमे शरणागति हीं सबसे उत्तम राह हैं। कारण कि जब कोई दूसरी राह / कर्म करता हैं तो उसे पहिले स्थान पर करता हैं। अगर कोई व्यक्ति यह कर्म नहीं करता हैं तो यह राह उसके लिए उत्पन न होगी। शरणागति दूसरी राह जैसे नहीं हैं वह एक क्षण में तो हो जाती हैं और दूसरे हीं पल खो भी जाती हैं। शरणागति हमेशा के लिए होती हैं और जो कोई भी उसे पालन कर सकता वह उसका पालन करता हैं । शरणागति या शरण होने कि राह और कोई नहीं स्वयं भगवान श्रीमन्नारायण हीं भगवान स्पष्ट रूप से इसी राह को “पूर्ण शरणागति” कहते हैं। । यह लक्षण विशेष गुण अन्यथा किसी और कार्य मे नहीं हैं । क्योंकि यह शरणागति अच्छे गुण / कर्म (जिसे पुण्य भी कहते हैं) से समझाया गया हैं इसे “शास्त्र” भी कहते हैं।जो भगवान श्रीमन्नारायण के चरणों के शरण होता हैं (जिसे शरणागति भी कहते हैं) भगवान उसके अच्छे कार्य के लिये उसकी सेवा भी करते हैं और उस पर कृपा भी करते हैं। अत: शरणागति और कुछ नहीं भगवान श्रीमन्नारायण के चरणों के शरण होना हैं और यह कहना “केवल आप हीं मेरे रक्षक हैं और मेरा और कोई भी नहीं और मैं और कोई भी स्थान में भी नहीं जा सकता हूँ”। इस तरह कि “शरणागति” के लिए अति मुख्य और अति प्रामाणिक वस्तु जो चाहिये वह पूर्ण विश्वास जिसका शास्त्र के अनुसार नाम हो जैसे “महा विश्वास” और “अध्यावसायं” । अगर कोई यह विश्वास खो देता हैं तो भगवान श्रीमन्नारायण कभी अच्छा परिणाम नहीं देंगे। इसके अलावा वह जिसने शरणागति कि हो वह यह कण मात्र भी नहीं सोचना चाहिये कि उसी ने शरणागति कि हैं। उसे यह “अहंकार” (में, मेरा इत्यादि) और “ममकार” (मेरा आदि) नहीं आना चाहिये। वह इस तरह का व्यक्ति होना चाहिये जो भगवान श्रीमन्नारायण के चरण कमलों को छोड़कर और कोई स्थान में नहीं जा सके। ऐसे व्यक्ति को हीं शरणागति कि आवश्यकता हैं। इस विचार को आल्वार इस तरह दर्शाते हैं “पुगल ओंरीला आडिएन”। अगर कोई व्यक्ति इस सांसारिक जीवन से घृणा करके पूर्णत: भगवान के चरण कमलों के पास पहुँचना चाहता हो तो भगवान यह निश्चित करते हैं कि वह तुरन्त उसके पास पहुँच जाये। यह शरणागति के साहित्य में समझाया गया हैं।

मटोर् सादनत्तैप पर्रिल: किसी को भी शरणागति का अर्थ और अभिप्राय मालुम होना चाहिये। एक बार भगवान श्रीमन्नारायण के चरण कमलों के शरण होने के पश्चात कोई भी इस शरणागति के राह से दूर नहीं जाना चाहिये और अपने आप को भी बचाने के लिये दूसरे कार्य खुद हीं शुरू नहीं करना चाहिये । अगर कोई कारण से वह यह करता भी हैं तो शरणागति कभी उस व्यक्ति का उपाय नहीं होगी। जो शरणागति उसने कि वह उसको मदद नहीं करेगी बल्कि उसको हमेशा के लिये छोड़ देगी। अत: हर व्यक्ति को पूरे निरंतर विश्वास के साथ अपने तरफ पकड़ के रखता हैं और शरणागति पर संशय नहीं करता हैं परंतु खुद को बचाने के खुद हीं सभी कार्य लिये करने लगता हैं। अगर वह करता हैं तो शरणागति पूरी तरह टूट जायेगी। इसे एक कहानी के जरिये समझाया गया हैं।

अञ्जनै तन सेयै: अंजना का पुत्र, हनुमान हैं

मुरण अलियक कट्टियदु: मुरण ताकत या बल / साहस को दर्शाता हैं और इसलिये यह पद का अर्थ “उस ताकत को ब्रह्मास्त्र के जरिये निष्प्रभाव करना ”।

वेरोर कयिरु कोण्डु आर्प्पदन मुन: वह क्षण जब कोई ब्रह्मास्त्र पर विश्वास न रखकर दूसरे छोटी रस्सीयों पर विश्वास रखकर हनुमानजी को बाँधता हैं। (अर्थल का मतलब बाँधने कि क्रिया)

विट्ट पडै पोल: शरणागति उसी तरह निष्फल हो जायेगी जैसे ब्रह्मास्त्र भी दूसरे छोटी रस्सी के संयोग में आने से निष्फल हो जाती हैं।

रक्का: रामायण में जब श्रीहनुमानजी श्रीलंका में सन्देश लेकर आते हैं तब वें पूरी तरह अशोक वाटीका को नष्ट कर देते हैं। इन्द्रजीत जो रावण का पुत्र था हनुमानजी से युद्ध कर उनको ब्रम्हास्त्र से बांध दिया। फिर भी हनुमानजी ने जो क्रोध लंका पे किया वह याद कर इन्द्रजीत ने उन्हें ब्रम्हास्त्र को आधार देंगी यह सोचकर दूसरी और छोटी रस्सीयों से बांधा । वह मन में यह सोचा कि, “क्या यह ब्रम्हास्त्र हनुमान जैसे योद्धा को बाँधने के लिये काफी हैं” और ब्रम्हास्त्र के शक्ति पर शंका करने लगा । अत: एव उसने एक कदम आगे बढ़कर और छोटी रस्सीयों लाकर हनुमान को बांध दिया। इन्द्रजीत का यह बुद्धिहीन कार्य देखकर ब्रम्हास्त्र ने हनुमान को उनके गांठ से मुक्त कर दिया। उसी तरह किसी को भी शरणागति छोड़ और कोई कार्य में लगना हो तो उसको शरणागति का कभी भी परिणाम नहीं मिलेगा और उस व्यक्ति को हमेशा के लिये मुश्किल में रख देगी। शरणागति की ब्रम्हास्त्र के साथ तुलना कि गई हैं और बाकि अच्छे कर्मों की उन तुच्छ रस्सीयों के साथ तुलना कि गई हैं।

हिन्दी अनुवादक – केशव रामानुज दासन्

Source: http://divyaprabandham.koyil.org/index.php/2015/02/gyana-saram-28-sharanagathi-marror/
archived in http://divyaprabandham.koyil.org
pramEyam (goal) – http://koyil.org
pramANam (scriptures) – http://srivaishnavagranthams.wordpress.com
pramAthA (preceptors) – http://acharyas.koyil.org
srIvaishNava education/kids portal – http://pillai.koyil.org

ज्ञान सारं – पासुर (श्लोक) २७

Published by:

श्री:
श्रीमते शठकोपाय नम:
श्रीमते रामानुजाय नम:
श्रीमत् वरवरमुनये नम:

ज्ञान सारं

ज्ञान सारं – पासुर (श्लोक) २६                                                           ज्ञान सारं – पासुर (श्लोक) २८

पासुर – २७

$6ABE403FF97C9457

नेरि अरियादारूम अरिन्दवर पार सेन्रु
सेरिदल सेय्यात ती मनत्तर तामुम् इरै उरैयैत
तेरादवरुम तिरुमडन्दै कोन उलगत्तु
एरार इडर अलुन्दुवार

प्रस्तावना: इस पाशुर में श्री देवराज मुनि स्वामीजी तीन प्रकार के व्यक्ति के बारें में कहते हैं। वह कहते हैं कि यह तीन श्रेणी के लोग कभी भी भगवान श्रीमन्नारायण के परमपद को प्राप्त नहीं कर सकते और वें अपने आप को संसार बन्धन के पीड़ा जो कि जन्म मरण हैं उसी में रहते हैं।

अर्थ: अरियादारूम – जिन्हें मालुम नहीं हैं | नेरि – यानि | अरिन्दवर पार सेन्रु– जो आचार्य के पास जाते हैं जिन्हें उसका मतलब मालुम हैं परन्तु | सेरिदल सेय्यात – अपने आचार्य को उनकी आज्ञा पालन न करके उनको प्रसन्न नहीं करता और उनके तक हीं कैंकर्य करता हैं और ती मनत्तर तामुम् – जिसके हृदय में कपट हो और | इरै उरैयैत तेरादवरुम – जिसे भगवान श्री कृष्ण द्वारा भगवद गीता में “शरणागति” शास्त्र को समझाया उस पर विश्वास नहीं हैं; वह लोग | एरार – नहीं पहुंचेंगे | उलगत्तु – परमपद जहाँ राजा और कोई नहीं | तिरुमडन्दै कोन – वह हैं जो श्रीमहालक्ष्मीजी के राजा हैं; ऐसे लोग | अलुन्दुवार उसमे डूब जायेंगे इडर – यह संसार समुद्र जो सभी पीड़ा का मूल हैं।

स्पष्टीकरण: नेरि अरियादारूम:  यहाँ कुछ लोग ऐसे हैं जिन्हें यह नहीं पता जन्म मरण के जंजीरों कि राह कैसे तोड़ते हैं जो कि पुन: पुन: आती हैं। उन्हें इस फंदे से बाहर आने का रास्ता हीं नहीं मिलता हैं वें इसी चक्र में सदैव के लिए फंसे रहते हैं। इन व्यक्तियों को यहाँ दर्शाया गया हैं। अरिन्दवर पार सेन्रु सेरिदल सेय्यात ती मनत्तर तामुम्: यह उन व्यक्तियों को दर्शाया गया हैं जो इस जन्म मरण के संसार बन्धन से किस तरह छुटकारा दिलाना पता होता हैं ऐसे आचार्य कि शरण नहीं लेते हैं, उसे जो इस पद में बताया गया हैं “मारि मारि पला पिरप्पुम पिरन्धु”। यह लोग आचार्य के चरण कमलों को नहीं स्वीकारते। अगर वें अपने अपने आचार्य के चरणों में नहीं जाते हैं तो उनका भगवान के प्रति सही आचरण नहीं होगा। हालकि आचार्य इन्हें इस संसार के जन्म मरण के बन्धन से निकाल ने के लिये तैय्यार हैं परन्तु इनका आचरण देखकर उन्हें यह रहस्य उन्हें बताने से निषेद करता हैं। कारण यह हैं कि वह अपने आचार्य के कृपा को न स्वीकारते हैं और वही कार्य करते हैं जो उन्हें खुद को प्रसन्न करें। वह अपने आचार्य से इस संसार बन्धन से छुटने के लिए नम्रता पूर्वक प्रार्थना नहीं करते हैं। वह अपने आचार्य का बताया हुआ कोई भी कार्य नहीं करते हैं। आचार्य से कभी भी बात नहीं करते। वह अपने आचार्य को एक दूसरे व्यक्ति के जैसे हीं देखते हैं और उनमे अनगिनत गलतियाँ ढुँढते हैं जैसे कि एक साधारण व्यक्ति में गलतियाँ ढुँढता हैं। ऐसे लोगों के बारें यहाँ समझाया गया हैं।
इरै उरैयैत तेरादवरुम: एक और समूह के लोग हैं जिन्हें शरणागति शास्त्र (पूर्णत: भगवान श्रीमन्नारायण के चरण कमलों के शरण होना) में विश्वास नहीं हैं। शरणागति का उपदेश तो अर्जुन को भगवान कृष्ण ने अपने “भगवद् गीता” में दिया था। हालकि भगवान ने अर्जुन से बात कि परन्तु अपने आप को जरिया बनाया। उनका मूल उद्देश तो हम जैसे लोग थे इसलिये उन्होंने अर्जुन को अपना हमारे लिए प्रतिनिधि चुना।

तिरुमडन्दै कोन उलगत्तु एरार: ऐसे लोग कभी भी “श्रीवैकुण्ठ” या “परमपद” नहीं जायेंगे जो भगवान कि तिरुमाली हैं और जो पिराट्टी के स्वामी हैं। इडर अलुन्दुवार: ऐसे लोग हमेशा के लिए इस शोकमय दु:खी सन्सार में डुब जायेंगे और पुन: जन्म लेते रहेंगे। वह सब पीड़ा का अनुभव करते हैं और कभी भी भगवान के परम धाम परमपद नहीं पहुँचते। स्वामीजी श्री देवराज मुनि कहते हैं ये हमेशा के लिए अत्यन्त दु:ख प्राप्त करेंगे।

हिन्दी अनुवादक – केशव रामानुज दासन्

Source: http://divyaprabandham.koyil.org/index.php/2015/02/gyana-saram-27-neri-ariyadharum/
archived in http://divyaprabandham.koyil.org
pramEyam (goal) – http://koyil.org
pramANam (scriptures) – http://srivaishnavagranthams.wordpress.com
pramAthA (preceptors) – http://acharyas.koyil.org
srIvaishNava education/kids portal – http://pillai.koyil.org

ज्ञान सारं – पासुर (श्लोक) २६

Published by:

श्री:
श्रीमते शठकोपाय नम:
श्रीमते रामानुजाय नम:
श्रीमत् वरवरमुनये नम:

ज्ञान सारं

ज्ञान सारं – पासुर (श्लोक) २५                                                          ज्ञान सारं – पासुर (श्लोक) २७

पासुर – २६

ramanuja

तप्पिल गुरू अरूलाल तामरैयाल नायगन तन
ओप्पिल अडिगल नमक्कु उललत्तु वैप्पेन्रु
तेरि इरुप्पार्गल तेसु पोलि वैगुन्दत्तु
एरि इरुप्पार पणिगक्टे एय्न्दु

प्रस्तावना:
भगवान श्रीमन्नारायण के चरण कमल के शरण होने को पूर्णत: समर्पण होने कि पथ को ही शरणागति कहते हैं और यही वह पथ हैं जिसे स्वयं भगवान श्रीमन्नारायण ने ही कहा हैं। तमील कवि तिरुवल्लूवर कहते हैं कि “पोरी वायिल ऐयंधविथ्थान पोयधिर ओझुक्का नेरी”। यहाँ उन शब्दों को समझना चाहिये जैसे कि “ऐयंधविथ्थान आगिरा इरैवनाल सोल्लापत्ता उण्मयान नेरी ओझुक्का नेरी” जिसका अर्थ हैं कि वह भगवान ही हैं जिन्होंने हमें यह दोषरहित पथ बताया हैं। तिरुवल्लूवर अपने और एक पद में जिसकी शुरुवात “पर्रर्रान पर्रिनै” से होती हैं जहाँ वह कहते हैं “इरैवन ओधिया व्ल्ट्टु नेरी”। यहाँ नेरी और कुछ नहीं परन्तु शरणागति (पूर्णत: समर्पण) कि राह हैं। यह भगवान श्रीमन्नारायण के चरण कमलों को पूर्णत: समर्पण का कर्म केवल आचार्य के सहारे से ही किया जाना चाहिये। शरणागति का गहराई से मतलब अपने आचार्य से ही समझा जा सकता हैं। जो ऐसे ही करते हैं और जिसे पूरा भरोसा हो वह भगवान के परमपद धाम में जरूर पहूंचेगा और निरन्तर वहाँ कैंकर्य करते रहेगा।

 

अर्थ:
अरूलाल – एक श्रेष्ठ आशीर्वाद के साथ गुरू – आचार्य जिनके पास हैं
तप्पिल – ज्ञान में थोड़ा भी अधुरापन नहीं और उसी ज्ञान पर व्यवहारीक आचरण तेरि इरुप्पार्गल – जो कठोरता से यह तथ्य में विश्वास रखते हो
ओप्पिल –असमानबल अडिगल – चरण कमलों का तामरैयाल नायगन तन – पिरट्टी के स्वामी, भगवान ही हैं  वैप्पेन्रु – एकत्रीत करना उललत्तु –एक हृदय जो अपने हृदय पर
नमक्कु – जिसको थोड़ा सा भी ज्ञान न हो, ऐसे व्यक्ति एरि – परमपद जाने का सही पथ पर पणिगक्टे – परमपद जाने के बाद का कैंकर्य करना
एय्न्दु इरुप्पार – और उससे भी उचित कार्य वहा परमपद में करना जो की इस तरह दर्शाया गया हैं   तेसु पोलि –प्रकाशमान वैगुन्दत्तु – नित्य तिरुमली जो कहलाई जाती हैं “श्रीवैकुण्ठ” या “परमपद”

स्पष्टीकरण: तप्पिल गुरू अरूलाल: “तप्पिल गुरू ” उन आचार्य को दर्शाते हैं जो कभी भी कुछ गलत नहीं करते हैं। तिरुकुरल के पद से “कर्का अधर्कु थगा निर्का” कि आचार्य पहिले प्राप्त किए ज्ञान की वजह कभी भी कोई गलत कार्य नहीं करते और यही ज्ञान का परिणाम और सच्चाई हैं । तामरैयाल नायगन तन: यह तिरू (पिरट्टी) के स्वामी को संबोधीत करता हैं, जो कोई और नहीं भगवान श्रीमन्नारायण खुद ही हैं। यह पद का अर्थ दो जगह प्रगट होता हैं: (१) “श्रीमन्न” और (२) नारायण। दोनों ही द्वय मन्त्र के उत्तर भाग में हैं। “तामरैयाल नायगन” इस पद में यह तथ्य हैं कि भगवान श्रीमन्नारायण कभी भी अम्माजी से अलग नहीं होते हैं। यह द्वय मन्त्र के “श्रीमन्न” पद में देखा जा सकता हैं। “नायगन तन ” द्वय मन्त्र में श्रीमन्न नारायण पद का मतलब ही “नारायण” पद का अर्थ हैं। यह दोनों एक भक्त को उच्च कोटी पर ले जाने के लिए जरूरी हैं। जब भगवान के भक्त अपने आप को पूर्णत: भगवान श्रीमन्नारायण को समर्पण करते हैं तब वात्सल्य, स्वामित्व, सौशील्य, सौलभ्य यह गुण उस समय भगवान में जरूरी हैं। समर्पण के पश्चात भगवान के गुण जैसे ज्ञान और शक्ति यह दोनों जरूरत हैं और इसके अतिरिक्त प्राप्ति और पूर्ति जैसे गुणों कि भी जरूरत हैं। “नायगन तन ” पद में भगवान के वहीं गुण दर्शाते हैं जो द्वय मन्त्र में “नारायण” पद में हैं।

ओप्पिल अडिगल:  यह भगवान श्रीमन्नारायण के “अनोखे चरण कमलों” को दर्शाता हैं जो द्वय मन्त्र में “चरणौ” शब्द के अर्थ को बताता हैं। इसका कारण यह हैं कि भगवान का चरण कमल को हमेशा “अनोखा” ऐसा वर्णन किया हैं क्योंकि भगवान में किसी कि भी सहायता लिए बिना अपने किसी भी भक्तों कि रक्षा करने कि योग्यता हैं । नमक्कु उललत्तु वैप्पेन्रु: यह हमारे जैसे भक्तों को दर्शाता हैं। भगवान कि शरण कि कृपा को ग्रहण करने के सिवाय हमारे पास और कोई भी दूसरा उपाय नहीं हैं। संसार की पूर्णत: सच्चाई के अनुसार भगवान के सिवाय और कोई भी राह नहीं हैं। अत: “हम” यानि हम सब जन जिन्होंने यह सच्चा विश्वास जान लिया हैं और यह सब जन को ही “नमक्कु” पद से दर्शाया गया हैं। जो भक्त अपने हृदय में भगवान के चरण कमलों को रखते हैं वह इसे “संपत्ति” / बचत खाता समझते हैं। इसलिये द्वय मन्त्र में यह दो पद “चरणौ” और “प्रपद्ये” इसी तरह दर्शाते हैं। इसका कारण इस प्रकार हैं: अगर किसी व्यक्ति के पास संपत्ति हैं तो वह कुछ भी अपने पसन्द का कर सकता हैं। उसी तरह अगर किसी व्यक्ति के हृदय में भगवान श्रीमन्नारायण के चरण कमल विराजते हैं तो वह पूर्णत: कुछ भी कर सकता हैं क्योंकि वह हमेशा भगवान के बारे में सोचता हैं कि “सिर्फ उनके चरण कमल हीं मेरे रक्षक हैं”। अत: सम्पत्ति के साथ भगवान के चरण कमलों कि तुलना करना बहुत ही सुन्दर हैं। और जब भी हम यह कहते हैं कि उनके चरण कमलों को पकड़ लो तो वह मानसीक कार्य हैं ना कि शारीरिक। इसे “मानसा स्व्ल्कारम” कहते हैं इसलिये यह मानसीक कार्य हैं ना कि शारीरिक। तेरि इरुप्पार्गल: जो एक भगवान के चरण कमल हीं उनके हृदय में निवास करते हैं उनकी यह सोच पर कभी भी डगमगाते नहीं हैं । यह एक बहुत मनभावन हैं कि भगवान के चरण कमल के ही शरण होना हैं और हृदय में उनकी आराधना करना। हालकि उनके विश्वास का ना डगमगाना यह एक आसान कार्य नहीं हैं। अत: “तेरि इरुप्पार्गल ” उन लोगों को शामील करता हैं जो इसमे निरन्तर विश्वास करते हैं। वह व्यक्ति जिसने शरणागति कि हैं उसके लिये यह विश्वास बहुत प्रभावशाली हैं। अगर इस विश्वास में थोड़ी सी भी कमी हैं तो वह परमपद नहीं जा सकेगा। वह व्यक्ति जिसको यह थोड़ा सा विश्वास हो, उसके लिये यह थोड़ा सा विश्वास हासिल करना आगे कि पंक्तियों में समझाया गया हैं। तेसु पोलि वैगुन्दत्तु: वह अपने अंतिम उद्देश तक पहुँच जायेंगे जो “परमपद” हैं जिसे “अझिविल व्ल्डु” ऐसा समझाया गया हैं। परमपद में कोई भी उच्च आनन्द का अनुभव कर सकता हैं और भगवान श्रीमन्नारायण कि हमेशा सेवा कैंकर्य कर सकता हैं।

एरि इरुप्पार पणिगक्टे एय्न्दु: यह भक्त जन योग्य हैं और परमपद में कैंकर्य करने के लिए हमेशा तत्पर रहते हैं। “पणिगल” भगवान श्रीमन्नारायण के कैंकर्य करने को दर्शाता हैं। “एयन्धु इरुप्पार” भगवान श्रीमन्नारायण का कैंकर्य करने के लिए हमेशा तत्पर / योग्य रहता हैं। अगर हम “पणि” का दूसरा अर्थ लेते हैं तो इसका एक और अर्थ भी हैं । “पणि” “आदिशेष” को भी दर्शाता हैं और इधर उसका अर्थ हैं कि उन भक्तों को आदिशेष के योग्यता के साथ तुलना करते हैं। इसका अर्थ हैं कि जैसे आदिशेष भगवान श्रीमन्नारायण का पूर्ण कैंकर्य करते हैं वैसे ही भक्त जन भी वह कैंकर्य कर सकते हैं। आदिशेष करने वाले कैंकर्य को बहुत सुन्दरता से यहाँ समझाया गया हैं “सेंराल कुदयाम, इरुन्धाल सिंगासनमाम, निन्राल मरवदियाम, नील कदलूल एनृम पुनैयां मणि विलक्काम, पूम्पट्टाम पुलगुम अणैयां तिरुमार्क्कु अरवु”।

हिन्दी अनुवादक – केशव रामानुज दासन्

Source: http://divyaprabandham.koyil.org/index.php/2015/02/gyana-saram-26-thappil-guru-arulal/
archived in http://divyaprabandham.koyil.org
pramEyam (goal) – http://koyil.org
pramANam (scriptures) – http://srivaishnavagranthams.wordpress.com
pramAthA (preceptors) – http://acharyas.koyil.org
srIvaishNava education/kids portal – http://pillai.koyil.org