Category Archives: varavaramuni dhinacharyA

உத்தர​ திநசர்யை – 3

Published by:

ஸ்ரீ:
ஸ்ரீமதே சடகோபாய நம:
ஸ்ரீமதே ராமாநுஜாய நம:
ஸ்ரீமத் வரவரமுநயே நம:

ஸ்ரீ வரவரமுநி திநசர்யை

<< உத்தர திநசர்யை – 2

ஸாயந்தநம் தத: க்ருத்வா ஸம்யகாராதநம் ஹரே: |
ஸ்வைராலாபை: ஸுபை: ஸ்ரோத்ருந்நந்தயந்தம் நமாமி தம்|| (3)

பதவுரை: தத: – ஸாயங்காலத்தில் ஸந்த்யாவந்தனம் செய்தபிறகு, ஸாயந்தநம் – மாலைக்காலத்தில் செய்யவேண்டிய, ஹரே: ஆராதநம் – அரங்கநகரப்பனென்னும் தமது பெருமாளுடைய திருவாராதநத்தை, ஸம்யக் – நன்றாக, (பரமபக்தியோடு), க்ருத்வா – செய்து, ஸுபை: – கேட்பாருக்கு நன்மை பயக்குமவையான, ஸ்வை:ஆலாபை: – தம்மிஷ்டப்படியே பேசும் ஸுலபமான பேச்சுக்களாலே, ஸ்ரோத்ரூந் – கேட்போரை, நந்தயந்தம் – மகிழ்வித்துக்கொண்டிருக்கிற, தம் – அம்மாமுநிகளை, நமாமி-வணங்குகிறேன்.

கருத்துரை: ‘ஆர்வசனபூடணத்தின் ஆழ்பொருளல்லாமறிவார் ? ஆர் அது சொல் நேரில் அநுட்டிப்பார்’ (உபதேச. 55) என்கிறபடியே அறிவதற்கும், அறிந்தபடியே அநுஷ்டிக்கைக்கும் முடியாத ஸ்ரீவசநபூஷணார்த்தங்களை ஸிஷ்யர்களுக்கு உபதேசிக்கும்போது எவ்வளவு எளிய நடையில் உபதேசித்தாலும், அர்த்தத்தின் அருமைக்கு ஏற்றபடி அவ்வுபதேசமும் அரிய நடையாகவே தோன்றும். ஸாயம்ஸந்த்யாவந்தநமும் பெருமாள் திருவாராதநமும் முற்றுப்பெற்ற பின்பு இப்போழுது செய்யும் ப்ரவசநம் தன்னிச்சைப்படி தானாகவே வரும் எளிய பேச்சாகவே இருக்கும். இதுவே ஸ்வைராலாபம் எனப்படும். ஸகல ஸாஸ்த்ரார்த்தங்களையும் உள்ளடக்கிக் கொண்டிருக்கும் மிகமிக எளிமையான பேச்சுக்கு ஸ்வைராலாபம் என்று பெயர். இத்தகைய பேச்சுக்களாலே முன்பு ஸ்ரீவசநபூஷணம் கேட்ட  தம் ஸிஷ்யர்களையே மகிழ்விக்கிறார் மாமுனிகள் என்க. இங்கு ‘ஹரி:’ என்றது பூர்வதிநசர்யையில் பதினேழாம் ஸ்லோகத்தில் ப்ரச்தாவிக்கப்பட்ட ‘ரங்கநிதி’ என்ற தம் திருவாராதநபெருமாளாகிய அரங்கநகரப்பனையேயாகும். ஹரி: என்றதற்கு ஆஸ்ரிதருடைய விரோதியைப் போக்குமவனென்றும், எல்லா தேவதைகளையும் நியமிப்பவன் (அடக்கியாள்பவன்) என்றும் பொருள். பூர்வதிநசர்யையில் ‘அத ரங்கநிதிம்’ (17) என்று காலையாராதநமும், ‘ஆராத்யஸ்ரீநிதிம்’ (29) என்று பகலாராதநமும், இந்த ஸ்லோகத்தில் மாலையாராதநமுமாகிய மூன்று வேளைத் திருவாராதநங்களும் கூறப்பட்டது காணத்தக்கது.

வலைத்தளம் – http://divyaprabandham.koyil.org

ப்ரமேயம் (குறிக்கோள்) – http://koyil.org
ப்ரமாணம் (க்ரந்தங்கள்) – http://granthams.koyil.org
ப்ரமாதா (ஆசார்யர்கள்) – http://acharyas.koyil.org
ஸ்ரீவைஷ்ணவக் கல்வி வலைத்தளம் – http://pillai.koyil.org

 

உத்தர​ திநசர்யை – 2

Published by:

ஸ்ரீ:
ஸ்ரீமதே சடகோபாய நம:
ஸ்ரீமதே ராமாநுஜாய நம:
ஸ்ரீமத் வரவரமுநயே நம:

ஸ்ரீ வரவரமுநி திநசர்யை

<< உத்தர திநசர்யை – 1

அத கோஷ்டீம் கரிஷ்டாநம் அதிஷ்டாய ஸுமேதஸாம் |
வாக்யாலங்க்ருதிவாக்யாநி வ்யாக்யாதாரம் நமாமி தம் ||

பதவுரை:  அத – யதிராஜவிம்ஸதியை இயற்றியருளியபிறகு, கரிஷ்டாநம் – (தனித்தனியே ஒவ்வொருவரும் நூலியற்றும் வல்லமை பெற்றவராய்) ஆசார்யஸ்தாநத்தை வஹிக்கத்தக்க பெருமை பெற்றவரான, ஸுமேதஸாம் – நல்ல புத்திமான்களுடைய, கோஷ்டீம் – ஸமூஹத்தை, அதிஷ்டாய – அடைந்திருந்து, வாக்யாலங்க்ருதிவாக்யாநி – ஸ்ரீவசநபூஷணக்ரந்தத்திலுள்ள வாக்யங்களை, வ்யாக்யாதாரம் – விவரித்துரைக்கும் தன்மையரான, தம் – அந்த மணவாளமாமுனிகளை, நமாமி – வணங்குகிறேன்.

கருத்துரை: இதுவரையில் க்ரந்தநிர்மாணமாகிய ஸ்வாத்யாயத்தை அருளிச்செய்து, இனி ஸ்வாத்யாயத்தில் மற்றொருவகையான பூர்வாசார்யக்ரந்த வ்யாக்யானத்தை அருளிச்செய்கிறார். கரிஷ்டா – அத்யந்தம் குரவ: கரிஷ்டா: – உயர்ந்த ஆசார்யர்கள் என்றபடி. இவர்களுக்கு அடைமொழி – ஸுமேத ஸ: என்பது. ஒருதடவை சொல்லும்போதே பொருளை நன்றாக அறிதலும், அறிந்த பொருளை மறவாதிருத்தலும், மேதா எனப்படும். ஸுமேத ஸ: நல்ல மேதையை உடையவர்களை, இங்ஙனம் நல்ல மேதாவிகளாய் கரிஷ்டர்களானவர் யார் என்றால் – கோயில் கந்தாடையண்ணன், வானமாமலை ஜீயர் முதலிய அஷ்டதிக் கஜாசார்யர்களேயாவர். இதுவரையில் யோகத்தில் ரஹஸ்யமாக எம்பெருமானாரை அநுபவித்தவர், அதைவிட்டு ஸிஷ்யர்கள் இருக்கும் கோஷ்டியில் சேர்ந்து அவர்களுக்கு ஸ்ரீவசநபூஷணக்ரந்தத்தை விவரித்தருளிச்செய்கிறார் மாமுனிகள். அன்னவரை வணங்குகிறேனென்றாராயிற்றிதனால். வசநபூஷணம் – ரத்நங்களை நிறைய வைத்துப் பதித்துச் செய்த பூஷணத்தை (அணிகலனை) ரத்நபூஷணம் என்று சொல்லுமாப்போலே, பூர்வாச்சார்யர்களுடைய வசநங்களை (சொற்களை) நிறைய இட்டுப் (தமது சொற்களைக் குறைய இட்டு) படிப்பவர்களுக்கு ப்ரகாஸத்தையுண்டாக்குமதாகப் பிள்ளைலோகாச்சார்யரால் அருளிச்செய்யப்பட்ட க்ரந்தம் வசநபூஷணமென்று சொல்லப்படுகிறது. அது பரமகம்பீரமாகையால் அதன் பொருள் விளங்கும்படி மாமுனிகள் வ்யாக்யானம் செய்தருளுகிறார். வ்யாக்யானமாவது – பதங்களைப்பிரித்துக்காட்டுதல். பொருள் விளங்காத பதங்களுக்குப் பொருள் கூறுதல், தொகைச்சொற்களை இன்ன தொகையென்று தெரிந்து கொள்வதற்காக அதற்கேற்றபடி பிரித்துக்கூறுதல், வாக்கியங்களிலுள்ள பதங்களில் எந்தப் பதம் எந்தப்பதத்தோடு பொருள் வகையில் பொருந்துமோ அப்படிப்பட்ட பொருத்தம் காட்டுதல், ஏதாவது கேள்வி எழுந்தால் அதற்கு விடை கூறுதல் ஆகிய இவ்வைந்து வகைகளையுடையதாகும். ‘ஸுமேத ஸ: கரிஷ்டா:’ என்று சொல்லப்பட்ட கோயில்லண்ணன் முதலியவர்களுக்கும் அறியமுடியாத வசநபூஷணத்தின் பொருளை மணவாளமாமுனிகள் விவரிக்கிறாரென்றதனால், ஸ்ரீவசநபூஷணநூலின் பொருளாழமுடைமையும், மாமுனிகளின் மேதாவிலாஸமும் அறியப்படுகின்றன. எல்லாவகையான வேதங்கள் ஸ்ம்ருதிகள் இதிஹாஸங்கள் புராணங்கள் பாஞ்சராத்ர ஆகமங்கள், திவ்யப்ரபந்தங்கள் ஆகியவற்றின் ஸாரமான பொருள்களெல்லாம் ஸ்ரீவசநபூஷண க்ரந்தத்தில் கூறப்பட்டுள்ளதனால், இந்த ஒரு நூலை விவரித்துச்சொன்னால்  அந்நூல்களெல்லாவற்றையும் சொன்னதாக ஆகுமாகையால் இந்நூலை விவரித்து எல்லாவிதமான ஸ்வாத்யாயத்தையும் அநுஷ்டித்தாராயிற்று மாமுனிகள் என்க.

வலைத்தளம் – http://divyaprabandham.koyil.org

ப்ரமேயம் (குறிக்கோள்) – http://koyil.org
ப்ரமாணம் (க்ரந்தங்கள்) – http://granthams.koyil.org
ப்ரமாதா (ஆசார்யர்கள்) – http://acharyas.koyil.org
ஸ்ரீவைஷ்ணவக் கல்வி வலைத்தளம் – http://pillai.koyil.org

உத்தர​ திநசர்யை – 1

Published by:

ஸ்ரீ:
ஸ்ரீமதே சடகோபாய நம:
ஸ்ரீமதே ராமாநுஜாய நம:
ஸ்ரீமத் வரவரமுநயே நம:

ஸ்ரீ வரவரமுநி திநசர்யை

<< யதிராஜ விம்சதி – ச்லோகம் – 20

இதி யதிகுலதுர்யமேதமாநை: ஸ்ருதிமதுரைருதிதை: ப்ரஹர்ஷயந்தம் |
வரவரமுநிமேவ சிந்தயந்தீ மதிரியமேதி நிரத்யயம் ப்ரஸாதம் ||

பதவுரை: இதி – ஸ்ரீமாதவாங்க்ரி என்று தொடங்கி விஜ்ஞாபநம் என்பதிறுதியாகக் கீழ்க்கூறியபடியே, ஏதமாநை: – மேல் மேல் வளர்ந்து வருகிற, ஸ்ருதி மதுரை: – காதுக்கு இன்பமூட்டுமவையான, உதிதை: – பேச்சுக்களாலே, யதிகுல துர்யம் – யதிகளின் கோஷ்டிக்குத் தலைவரான எம்பெருமானாரை, ப்ரஹர்ஷயந்தம் – மிகவும் மகிழச்செய்து கொண்டிருக்கிற, வரவரமுநிம் ஏவ – மணவாளமாமுனிகளையே, சிந்தயந்தீ – சிந்தை செய்யாநிற்கிற, இயம்மதி: – (என்னுடைய) இந்த புத்தியானது, நிரத்யயம் – நித்யமான, ப்ரஸாதம் – தெளிவை, ஏதி – அடைகிறது.

கருத்துரை: இதுவரையில் தகாத விஷயங்களையே நினைத்து நினைத்து, அது கிடைத்தோ கிடையாமலோ கலங்கிக் கிடந்த தமது புத்தி யதிராஜ விம்ஸதியை விண்ணபித்து யதிராஜரை மகிழ்ச்சி வெள்ளத்தில் திளைக்கச் செய்கிற மணவாளமாமுனிகளொருவரையே நினைத்துக்கொண்டிருக்கும் நிலைமையை அடைந்து, முன்பிருந்த கலக்கம் நீங்கித் தெளிவு பெறுகிறதென்று கூறி மகிழ்கிறார் இதனால் எறும்பியப்பா. ‘வரவரமுநிமேவ’ என்றதனால், நேராக யதிராஜரை நினையாமல், அவரைத் தமது துதிநூலால் மகிழ்விக்கும் மணவாளமாமுநிகளையே நினைக்கும் நினைப்பு தமதறிவின் தெளிவுக்குக் காரணமென்றாராயிற்று. பகவானையோ பாகவதரையோ ஆசார்யரையோ நினைப்பதனால் உண்டாகும் தெளிவைவிட, ஆசார்ய பரதந்த்ரரான மாமுநிகளை நினைப்பதனால் உண்டாகும் தெளிவு அதிகமாகி, அது நிலைத்தும் நிற்குமென்றபடி. இருபது ஸ்லோகங்களையே கொண்டு மிகச்சிறியதாகிய இந்நூலிலுள்ள பேச்சுக்களை ‘ஏத மாநை:’ என்று மேல் மேல் வளர்ந்து கொண்டே செல்லுகிற பேச்சுக்களாக, மிகவும் மிகைப்படுத்திக் கூறியது எம்பெருமானார் திருவுள்ளத்தால் என்று கொள்ளவேணும். தம்மிடத்தில் ப்ரவணரான மாமுனிகள் விண்ணப்பிக்கிற ஒவ்வொரு ஸ்லோகத்தையும் ஆயிரக்கணக்கான ஸ்லோகங்களாக நினைப்பவரன்றோ எம்பெருமானார். கடுகையும் மலையாக நினைப்பவர்களன்றோ மஹாபுருஷர்கள். ‘ப்ரஹர்ஷயந்தம்’ என்றவிடத்தில் ஹர்ஷத்திற்கு – ஸந்தோஷத்திற்கு, மிகுதியை – சிறப்பைக்குறிக்கும், ‘ப்ர’ என்று உபஸர்க்கமாகிய விஸேஷணத்தை இட்டது, எம்பெருமானார்க்கு மாமுனிகளிடத்தில் உண்டாகும் ஸந்தோஷம் ஸ்வயம் ப்ரயோஜனமானதேயன்றி அந்த ஸந்தோஷத்தைக்கொண்டு மாமுனிகள் வேறொருபயனை ஸாதித்துக்கொள்ள நினைக்கவில்லையென்பதை அறிவிப்பதற்காகவே என்க. வரவரமுநியையே நினைக்கும் சிந்தயந்தி’ என்று குறிப்பிட்டதனாலே, கண்ணனையே நினைத்த சிந்தயந்தியான ஒரு கோபிகையைக் காட்டிலும், கண்ணனையே ஓயாமல் நினைத்த தீர்க்க சிந்தயந்தியாகிய நம்மாழ்வாரைக்காட்டிலும் எம்பெருமானாரையே நினைக்கிற சிந்தயந்தியாகும் இம்மணவாளமாமுனிகள் விலக்ஷணரென்பது போதரும். எம்பெருமானை நினைப்பவரைவிட, எம்பெருமானாரை நினைப்பவரிறே உயர்ந்தவர். இங்கு ‘ஸ்ருதி மதுரை: உதிதை:’ என்று பதம் பிரித்துப் பொருள் கூறப்பட்டது. ஸ்ருதிமதுரை:ருதிதை: என்றும் பதம் பிரித்துப் பொருள் கூறலாம். ருதிதை: என்பது அழுகைகளினாலே என்று பொருள்படும். இந்த யதிராஜவிம்ஸதியில் ‘அல்பாபிமே’ (6) என்று தொடங்கிப் பெரும்பாலும் தம்முடைய அறிவின்மை, பக்தியின்மை, பாபகாரியத்தில் ஊன்றியிருத்தல் முதலியவற்றைச் சொல்லி, ஹா ஹந்த ஹந்த – ஐயோ ஐயோ ஐயையோ என்று தமது துக்காதிஸயத்தையே விண்ணபித்ததனாலும், ஆத்மஸ்வரூபத்துக்கு ப்ரகாஸத்தை உண்டுபண்ணும் அழுகை பெருமையையே விளைக்குமாகையாலும், ‘ருதிதை:’ என்ற பாடம் கொண்டு அழுகை என்னும் பொருள் கூறுதலும்  ஏற்குமென்க. மோக்ஷத்தையே தரும் எம்பெருமானாருக்கு ஸம்ஸார ஸ்ரமத்தைச் சொல்லி மாமுனிகள் அழும் அழுகை செவியின்பத்தை உண்டாக்குமென்பதைச் சொல்லவும் வேண்டுமா ? அதனால் ஸ்ருதிமதுரை: என்றாரென்க. (யதிராஜவிம்ஸதி வடமொழி அழுகை, ஆர்த்திப்ரபந்தம் தென்மொழி அழுகை என்பது அறிதல் தகும்.

வலைத்தளம் – http://divyaprabandham.koyil.org

ப்ரமேயம் (குறிக்கோள்) – http://koyil.org
ப்ரமாணம் (க்ரந்தங்கள்) – http://granthams.koyil.org
ப்ரமாதா (ஆசார்யர்கள்) – http://acharyas.koyil.org
ஸ்ரீவைஷ்ணவக் கல்வி வலைத்தளம் – http://pillai.koyil.org

उत्तरदिनचर्या – निष्कर्ष

Published by:

श्री:
श्रीमते शठकोपाय नमः
श्रीमते रामानुजाय नमः
श्रीमद्वरवर मुनये नमः

परिचय

श्लोक १४

निष्कर्ष

दिनचर्या शब्द नित्यानुष्ठान को सूचित करती हैं।

आराधनीय भगवान , आराधना करनेवाले मनवालाममुनि के प्रति ,  आराधन-रूप  इन  अनुष्ठानो  के   प्रति    अतीत    भक्ति के सात इस ग्रन्थ को हमेशा अनुसंधान करनी हैं।

परमपद –  नित्य विभूति जो  ऊंची  स्थान  हैं।

अण्डों और उनसे  ऊंचे प्रस्तुत महथाधियो और उनसे भी ऊँचे और अद्वितीय लोक जो श्रीवैकुण्ट हैं।

प्राप्नोति – प्रकर्षेण आप्नोति , सिद्ध होना।  भगवान , नित्यसूरिया ,और मुक्तात्माये , इन तीनो  को  कैंकर्य    करने वाले  तीन  फलो की  सिद्धि के लिए  निर्विग्न स्थान को प्रकर्ष ,एवं गर्व संग आचार्य पर्यंत कैंकर्य  को  सिद्ध करता हैं ,.

भगवद आराधन रूप , यह पंचकालीय कर्म, मोक्ष की  ओर  सीधे  उपाय  हैं। लक्ष्मी तंत्र कहती हैं  की,   एक के बाद एक पधारने वाले इन अनुष्ठानों  के समय को जान कर , उन  अनुष्ठानो  की  पूर्ती करने  वाली ताखतमंद  और   बुद्धिशाली  जन अपने   सौ     प्रायो    के पश्चात  शीग्र  ही परमपद प्राप्थ करते हैं।   सर्व मोक्षोपायो  को छोड़ , इन पाँच  अनुष्ठानो को निभानेवाले, एक से एक जुड़े हुए कर्मग्ननभक्ति  जैसे उपायो से भी मुक्त ,  एम्बेरुमान  और परमपद  को प्राप्त  करते है, यह चांडिल्य स्मृति में भी उपस्तित सच्चाई हैं।

फिर भी भरद्वाज जैसे बड़ो के कहने से यह माँननीय है की , एम्बेरुमान  को सिद्धोपय मानने   वालो  को  फलरूप ही  ( भगवतकैंकर्य रूप ही) करनी चाहिए।

प्रपन्न को अपनाने वाले धर्मों को बताते हुए , “ पहले अभिगमन करके,  फिर उपाधान  जो भगवदराधन  केलिए   उचित वस्तुवो को इकट्ठा करके ,  फिर भगवान की आराधना  इग्न को अनुष्ठान करके , अच्छे ग्रन्थ की स्वाध्याय करके , अंत में भगवान की ध्यान करके इन पांच कालो को संतुष्ट भिताना  हैं” ,  बताया गया है की संतोष , फलानुभव के समय  पर हैं।  इस से निश्चित कर सकते है की, इन पाँचो को उपायरूप में नहीं, पर फलरूप में ही निभाना  हैं।

इस पर, पराशर मुनि की उत्तेजना भी सोचनीय हैं, “ कर्म , ज्ञान, भक्ति, प्रपत्ति  इन चारो  को  मोक्षोपाय के रूप में  अनुष्ठान न करके, चारो फलो  में से ममता  रहित , इन पांचकालीय  अनुष्ठानो  को केवल परमात्मा  के संतुष्टि  की प्रयोजन केलिए कैंकर्य रूप में करनी हैं”.

श्री देवराज गुरु कहलाने वाले एरुम्बियप्पा के प्रसादित श्री वरवरमुनि दिनचर्या  एवं उस की , वादूल  वीर राघव गुरु के नाम   से जाने वाले तिरुमलीसै अन्नवप्पय्यंगर स्वामी से लिखित संस्कृतत व्याख्यान पर आधारित  ति अ   कृष्णमाचार्य  दास  की तमिल टिप्पणियाँ पूर्ण हुई।

जैसे प्रस्तावना में ही सूचित हैं , श्री वरवरमुनि दिनचर्या  पूर्वदिनचर्य, मनवालाममुनि  की प्रसादित यतिराज  विंसति एवं उत्तरदिनचर्य ,ऐसे तीन भागों में हैं।  दोनों दिनचर्यो की केवल अन्नावप्पय्यंगर स्वामी के संस्कृत व्याख्यान ही  छपाई में हैं।  यतिराज विंसति की अन्नावप्पय्यंगर स्वामी के संस्कृत व्याख्यान के सात शुद्धसत्वं दोड्डेयाचार्य स्वामी तथा पिल्लैलोकम जीयर स्वामी के लिखित मणिप्रवाळ व्याख्यान भी हैं।  मणिप्रवाळ व्याख्यानों में प्रस्तुत विषयो की ज्ञान अनेकों को होने के कारण उनको छोड़  , अन्नावप्पय्यंगर स्वामी से लिखित इन तीनो की संस्कृत व्याख्यानों पर आधारित ही इसको मैंने लिखा हैं।  संस्कृत व्याख्यान में उपस्तित विस्तारपूर्वक कुछ विषयों को मैंने छोड़ दिया।  पुस्तक की विस्तीर्ण   के शंका और मेरे अज्ञान के  कारण इस पुस्तक में घटित अपराधो की क्षमा प्रार्थना करता हूँ।

हिंदी अनुवाद – प्रीति रामानुज दासि

archived in http://divyaprabandham.koyil.org
pramEyam (goal) – http://koyil.org
pramANam (scriptures) – http://srivaishnavagranthams.wordpress.com
pramAthA (preceptors) – http://acharyas.koyil.org
srIvaishNava education/kids portal – http://pillai.koyil.org

उत्तरदिनचर्या – श्लोक – १४

Published by:

श्री:
श्रीमते शठकोपाय नमः
श्रीमते रामानुजाय नमः
श्रीमद्वरवर मुनये नमः

परिचय

श्लोक १३                                                                                                                                   निष्कर्ष

श्लोक १४

दिनचर्याम इमाम दिव्यां रम्य जामातृ योगिन:
भक्त्या नित्यमनुध्यायन प्राप्नोति परमम् पदम

शब्द से शब्द

इमाम                                                  : “पटेर्त्यु पश्चिमे यामे” (पूर्व दिनचर्या १४) से “सयानम संस्मरामी तम” तक के                                                                 श्लोक।
दिव्याम् रम्यजामातृ योगिन: दिनचर्याम : अलगियामणवाळमामुनि के नित्य अनुष्ठान के विवरण
नित्यं : प्रति दिन (दिन और रात)            : जब एक व्यक्ति भक्ति संग दोहराता हैं
प्राप्नोति परमम् पदम                           : वह सर्वश्रेष्ठ निवासस्थान, परमपद सिद्द करता हैं जो जिसके आगे कुछ भी                                                                 नहीं।

अर्थ

अंत में यह दिनचर्या  ग्रन्थ अनुसंधान करने कि फल प्रकट करते हैं।
हमने देखा के पूर्वदिनचर्या के १३वे श्लोक तक प्रस्तावना; उपोध्गात हैं।

वहाँ के १४वे श्लोक से उत्तरदिनचर्या के १३वे श्लोक तक ही वरवरमुनि दिनचर्या हैं।

दिव्याम् को सर्वश्रेस्ट पांचरात्र के तरह शास्त्र सिद्धीय अनुष्ठानों को प्रकट करने वाली ग्रन्थ तथा दिव्यां -परमपदीय , इस संसार में असंभव, केवल परमपद में संभवित पञ्चकालिका (पांच कालों में करने वाले) अनुष्ठानों को प्रकट करने वालि ग्रन्थ भी मान सकते हैं।

भरद्वाजपरिसिष्ट कहति हैं कि अभ्यास में दुर्लभ ये अनुष्ठान कृतयुग में परमाइकान्तियो के द्वारा पूर्ण रूप से, त्रेतद्वापर युगो में घटते, कलियुग में अधिकतर अप्रचलित ही हो जाएगी।

विविध इच्छाओं और अनेक गौण देवताओं को पूजने वाले व्यक्ति , केवल श्रीमन नारायण को मानने वाले इस धर्म को नहीं अपनाएंगे।

कलि के क्रूरता से अल्प विषयों में मोहित रहते हैं और उनसे छुटकारा पाने कि बुद्धि भी उनमें कलि के पीड़ा के कारण सिद्ध नहीं होती हैं। और अगर उनमें कोई भगवान को पूजते भी हैं , तो परमतीय दुरशक्ति उनको अपने ओर मोह कर लेंगीं।

हिंदी अनुवाद – केशव रान्दाद रामानुजदास

archived in http://divyaprabandham.koyil.org
pramEyam (goal) – http://koyil.org
pramANam (scriptures) – http://srivaishnavagranthams.wordpress.com
pramAthA (preceptors) – http://acharyas.koyil.org
srIvaishNava education/kids portal – http://pillai.koyil.org

उत्तरदिनचर्या – श्लोक – १३

Published by:

श्री:
श्रीमते शठकोपाय नमः
श्रीमते रामानुजाय नमः
श्रीमद्वरवर मुनये नमः

परिचय

श्लोक १२                                                                                                           श्लोक १४

श्लोक १३

अतः ब्र्थयां अनुग्नाप्य कृत्वा चेत: सुभाश्रये।
सयनीयम् परिष्कृत्य सयानं संस्मरामि तम||

शब्द से शब्द

अतः          : जैसे पूर्व निर्दिश्ट किया गया हैं, शिष्यों को व्यक्तिगत शिक्षण के दो जामों के पश्चात,
ब्र्थयां         : शिष्य
अनुग्नाप्य  : प्रस्थान करने के पश्चात
सुभाश्रये     : आँखों और मन को आकर्षित करने वाले भगवान के दिव्य रूप में
चेत:कृत्वा   : अपनी धारणा बढ़ा कर (उस पर द्यान कर)
सायनीयं     : बिस्तर पर
परिष्कृत्य   : शयन करने से सुशोबित कर
सयानम     : विश्राम करना
तम           : उन स्वामी मणवाला मामुनि
संस्मरामी  : मेरे गहरी द्यान में हैं

अर्थ

“कृत्वा चेत सुभाश्रये” से यहाँ रात में भगवान पर किये गए द्यान की प्रस्ताव हैं।

“ततः कनक पर्यङ्के “, प्रकाशित करता हैं की मामुनिग़ल भगवद द्यान की प्रति उचित आसन से उठ कर, स्तोत्र में मग्न शिष्यों को कटाक्ष करते हैं, और उनकी प्रस्थान करने के बाद बिस्तर को, भगवान पर धारणा बढ़ाते हुए अलंकृत करते हैं।

इन महामुनि पर द्यान करते है येरुम्बियप्पा। आदिशेष के अवतार होने के कारण, महामुनि के अप्राकृत दिव्य रूप निद्रावस्था में दुगुनी और इसलिए निर्विग्न द्यान के हेतु हैं।

महामुनि केलिए सुभाश्रय भगवान की दिव्या मंगला रूप है और इस प्रकार अप्पा केलिए सुभाश्रय महामुनि की दिव्या मंगला रूप हैं।

हम यह मान सकते हैं की महामुनि जो यतीन्द्र प्रवणर् हैं भगवान पर द्यान करते हैं, यतीन्द्र स्वामी रामानुज के प्रसन्नता केलिए। वैसे, येरुम्बियप्पा के आराधित भगवान श्री राम जिनके निर्बंध के कारण महामुनि येरुम्बियप्पा को स्वीकार किये, उनके प्रसन्नता केलिए सौम्यजामातृयोगीन्द्र श्री महामुनि पर येरुम्बियप्पा द्यान करते हैं।

श्री राम की यह आज्ञा यतीन्ध्रप्रवणप्रभाव और अप्पा की वरवरमुनि सतक में प्रस्तुत हैं।

हिंदी अनुवाद – केशव रान्दाद रामानुजदास

archived in http://divyaprabandham.koyil.org
pramEyam (goal) – http://koyil.org
pramANam (scriptures) – http://srivaishnavagranthams.wordpress.com
pramAthA (preceptors) – http://acharyas.koyil.org
srIvaishNava education/kids portal – http://pillai.koyil.org

उत्तरदिनचर्या – श्लोक – १२

Published by:

श्री:
श्रीमते शठकोपाय नमः
श्रीमते रामानुजाय नमः
श्रीमद्वरवर मुनये नमः

परिचय

श्लोक ११                                                                                                             श्लोक १३

श्लोक १२

इति स्तुति निबन्धेन सूचितस्व्मनीषितान्
भृत्यान प्रेमार्द्रया दृश्ट्या सिञ्चन्तं सिन्तयामि तं  //१२//

शब्दश: अर्थ :

इति                         : जैसे अब तक इसे ६ छन्द में विस्तारपूर्वक किया गया है
स्तुति निबन्धेन        : स्तोत्र का मूलग्रंथ –
सूचितस्व्मनीषितान्  : स्वयं को लाभ पसन्द आना
भृत्यान                    : कोइल अन्नान जैसे शिष्य जो खरीद या बेच या ठीक रख सकते है
प्रेमार्द्रया                   : नेत्र जो प्रेम और कृपा से भरी हो
दृश्ट्या                     : आँखों कि दृष्टि
सिञ्चन्तं तं              : जो श्रीवरवर मुनि स्वामीजी
सिन्तयामि               : हमेशा मेरे ख़यालो और ध्यान में है

अर्थ

अब तक हम श्रीवरवर मुनि स्वामीजी के स्तोत्र का आनन्द लिया जिसे दिनचर्या कहते है। इसके पश्चात श्री एरुम्बियप्पा आचार्य को स्तोत्र सुनाकर आनन्द प्रदान करते है। इति = ऐसा। यानि पिछले ६ पदों के अनुसार। अगले ४ पद “त्वम् मे बन्धु”(७) से “याया वृत्ति”(१०) उनके द्वारा रचित वरवर मुनि सटकम में भी प्रगट होता है। “उन्मीलपद्म”(७) और “अपगता गत मानै” उन ४ पदो के जैसे है और इसलिए उन्हें उनकी हीं रचनाये ऐसा मान सकते है। इन ६ पदों में “दिव्यं तदपादा युग्मम दिसतु”(६), “तवपदयुगम देहि(९), “अंग्री द्वयं पस्यन पस्यन(८)”, इन ३ पदों में वें श्रीवरवर मुनि स्वामीजी से उनके चरण कमल उनके मस्तक पर रखने कि और उसे इन चरणों कि अब से पुजा करने कि प्रार्थना करते है । इस पद में प्रार्थना स्वाभाविक है और इसलिये यह ६ पद ६ अष्ट दिग्गजों द्वारा कोइल अण्णन, वानमामलै जीयर, एरुम्बियप्पा, तिरुवेंकटा रामानुज जीयर, परवस्तु पट्टर्पीरण जीयर, प्रतिवादी भयंकर अण्णा, आप्पिल्लै और अप्पुल्लार को छोड़ कर भी गाया जा सकता था।

जबकि कोइल कांतादै श्रीवरवर मुनु स्वामीजी के चरण पकड़ने के लिये प्रसिद्ध है और वानमामलै जीयर श्रीवरवरमुनि स्वामीजी के चरण के लकीर है और इसलिये वें हमेशा उनके चरण कमलों कि हीं पुजा करने में रुचि रखते थे। यह अन्नवप्पैएंगर स्वामीजी कि व्याख्या है। अब हम यह अंतिम निर्णय करते कि एक पद उनके द्वारा गाया गया और बाक़ी पाँच उनका ढेर सारा प्रेम  और सम्मान के कारण उनके शिष्य द्वारा ।

हिंदी अनुवाद – केशव रान्दाद रामानुजदास

archived in http://divyaprabandham.koyil.org
pramEyam (goal) – http://koyil.org
pramANam (scriptures) – http://srivaishnavagranthams.wordpress.com
pramAthA (preceptors) – http://acharyas.koyil.org
srIvaishNava education/kids portal – http://pillai.koyil.org

उत्तरदिनचर्या – श्लोक – ११

Published by:

श्री:
श्रीमते शठकोपाय नमः
श्रीमते रामानुजाय नमः
श्रीमद्वरवर मुनये नमः

परिचय

श्लोक १०                                                                                                               श्लोक १२

श्लोक ११

अपगतमदमानै: अन्तिमोपाय निष्टै:
अधिगतपरमार्थै: अर्थकामान अपेक्षै:
निखिलजनसुहृदिभि: निर्जित क्रोध लोभै:
वरवरमुनि भृत्यै: अस्तु मे नित्य योग: ॥   //११//

शब्दश: अर्थ

मे                             : मुझे इतने दिनों तक बुरे संगत में
अपगतमदमानै:        : सम्बन्धी जो नाही अहंवादी है और नाही व्यर्थ असम्मानिय बुजुर्ग
अन्तिमोपाय निष्टै:   : इस विश्वास के साथ कि आचार्य में निष्ठा हीं मोक्ष का अन्तिम अनुशासन है
अधिगतपरमार्थै:        : आचार्य और उनके लाभ से उनकी सेवा में पूर्णत: हर्ष में रहना
अर्थकामान अपेक्षै:     : दूसरे सांसारिक वस्तु, धन, आनन्द आदि में आस न रखना
निखिलजनसुहृदिभि: : मनुष्य जो बिना पक्षपात या तरफदारी के सब के भलाई की इच्छा करते है
निर्जित क्रोध लोभै:    : वों जिन्होंने पूर्णत: ग़ुस्से और घृणा पर विजय प्राप्त किया हो
वरवरमुनि भृत्यै:       : और अति मित्रता से श्रीवरवर मुनि स्वामीजी कि उपासना कि हो जैसे कोइल कान्तदै,                                                    वानमामलाई जीयर:
नित्य योग:               : नित्य उनके सम्पर्क में रहना ताकि उनके कोमल चरण को पकड़ सके
अस्तु                        : मुझ पर उसकी कृपा रहे

अर्थ

इससे उन्होंने ग़ुस्से, घृणा और ऐसे गुण वाले लोगों का त्याग के लिए प्रार्थना कि और श्रीवरवर मुनि स्वामीजी के शिष्यों से सम्बन्ध किया जो पक्षपात, तरफदारी या अधिक मान के बिना हमेशा सब का अच्छा सोचते है।

हिंदी अनुवाद – केशव रान्दाद रामानुजदास

archived in http://divyaprabandham.koyil.org
pramEyam (goal) – http://koyil.org
pramANam (scriptures) – http://srivaishnavagranthams.wordpress.com
pramAthA (preceptors) – http://acharyas.koyil.org
srIvaishNava education/kids portal – http://pillai.koyil.org

उत्तरदिनचर्या – श्लोक – १०

Published by:

श्री:
श्रीमते शठकोपाय नमः
श्रीमते रामानुजाय नमः
श्रीमद्वरवर मुनये नमः

परिचय

श्लोक ९                                                                                                               श्लोक ११

श्लोक १०

या या वृत्तीर्मनसि मम सा जायतां संस्मृतिस्ते
यो यो जल्पस्स भवतु! विभो! नामसंकीर्तनं ते ।
या या चेष्टा वपुषि भगवन्! सा भवेद्वन्दनं ते
सर्वं भूयाद्वरवरमुने! सम्यगाराधनं ते ।।१०  ।।

शब्दश: अर्थ

हे वरवर मुने!   : ओ श्रीवरवर मुनि स्वामीजी!
मम                : मेरे पहिले के जन्म और कर्म की दशा के कारण जो मेरी समझ है
जायतां           : जिस कुछ करणों से भाग्यवान है
सा वृत्ती:        : वह सभी ज्ञान,
ते                   : (आशीर्वाद के बारे मे सोचते हुये) आपका,
संस्मृति:         : आपके सुशोभित और मनोहर यादे,
जायतां           : मेरे लिए  प्रगट होइये /प्राप्त होइये
हे विभो!          : मेरे प्रिय स्वामी!
मे                  :  मेरे तक
या: या: जल्पा:: जो भी पवित्र शब्द है वह आपके स्तुति के लिये हीं है,
जायतां           : वह जो लौटाया जा सकता है (अन्य इंद्रियों के जरिये),
सा:                : वह सभी शब्द
ते                  : जो आपके ज्यादा बढ़ाई करने लायक है
जल्पा:           : शब्दों के रूप में
जायतां          : मेरे लिये प्रगट / उत्पन्न होना।
हे भगवन् !     : हे स्वामि
मम               : मेरा
वपुषि            : इस शरीर में जो हमेशा कुछ कार्य में लगा रहता है,
आ या चेष्टा   : उन कार्यों का प्रबन्ध करना,
ते                  : उनके पूजन करने योग्य
वन्दनं           : दंडवत करने के अवस्था मे
जायतां          : प्रगट / उत्पन्न होना मेरे लिए
सर्वं               : अभी तक जो कुछ सुना गया और जो न सुना गया वह मेरे कर्मो सा उत्पन्न होता है
ते                  : आप के लिए
सम्यगाराधनं : अच्छी प्रार्थना के रूप मे जो आप को अलंकृत करे
भूयात           : मेरे लिए

अर्थ:-

मेरे मन में जो भी बुरे विचार है उनको आपकी कृपा से अच्छे सोच में परिवर्तन कर देना। मेरे जुबान से जो व्यर्थ बातें निकलती है उनकी आपकी कृपा से मेरे द्वारा आपके लिये गाई हुई सुंदर गाथाओं मे परिवर्तित हो जाये । मेरे में जो बुरी आदते है आपको दण्डवत कर अच्छी बन जाये। इस तरह उनकी प्रार्थना चलती है। “जायतां” शब्द हर वाक्य में दो बार समझाया गया है। जायतां शब्द रूप में कई अर्थ देता है। यहाँ पहिले अर्थ में आता है अर्हम = योग्य। तत् पश्चात प्रार्थना में उसका अर्थ आता है। इस श्लोक का शब्दश: अर्थ में समझा जा सकता है। अथवा हम इसका अर्थ इस तरह भी ले सकते है कि मेरे चित्त में जो भी विचार है वह आपके नाम के प्रशंसा के लिये और मेरे शरीर से जो भी कार्य हो वह आपके कैंकर्य हेतु हो।

हिंदी अनुवाद – केशव रान्दाद रामानुजदास

archived in http://divyaprabandham.koyil.org
pramEyam (goal) – http://koyil.org
pramANam (scriptures) – http://srivaishnavagranthams.wordpress.com
pramAthA (preceptors) – http://acharyas.koyil.org
srIvaishNava education/kids portal – http://pillai.koyil.org

उत्तरदिनचर्या – श्लोक – ९

Published by:

श्री:
श्रीमते शठकोपाय नमः
श्रीमते रामानुजाय नमः
श्रीमद्वरवर मुनये नमः

परिचय

श्लोक ८                                                                                                                 श्लोक १०

श्लोक ९

कर्माधिने वपुषि कुमति: कल्पयन्नात्मभावं
धु:खे मग्न: किमिति सुचिरं दूयते जन्तुरेष:
सर्वं त्यक्त्वा वरवरमुने! सम्प्रति त्वत्प्रसादात्
द्दिव्यं प्राप्तुस्तव पदयुगं देहि मे सुप्रमातं ।। ।।

शब्दश: अर्थ

हे वरवर मुने!                                : ओ श्रीमनवाल महामुनि स्वामीजी!
ईष जन्तु                                      : यह आत्मा जो हमारे लिये समर्पित है
कर्मा धिने                                     : अपने पूर्व कर्म के कारण
वपुषि                                           : इस शरीर में
आत्म भावं                                   : उयाह कल्पना करना कि यह स्व आत्मा है
कल्पय                                         : इस भावना के साथ
कुमति:                                         : और दुषित ज्ञान
धु:खे मग्न:                                   : सांसारिक जीवन के दु:ख में डुबता हुआ
किं                                               : क्यों
दूयते                                            : वह कष्ठ भोग रहा है?
इति (मत्वा)                                  : उस तरह सोचना
सर्वं                                              : मुझे योग्य करना ताकी इस माया को छोड़ दू
त्यक्त्वा                                       : और यह सब छोड़ना
सम्प्रति                                        : इसी समय
त्वत्प्रसादाद्दिव्यं पदयुगं प्राप्तुस्तव  : मुझे योग्य करना आपके चरण कमल को पा सँकु
त्वत्प्रसादा                                    : आपके स्वाभाविक दया से
मे                                                : मेरे लिये
सुप्रमातं                                        : इस शुभ दिन में (मुक्त होने के लिये)
देहि                                              : आपको देना होगा

अर्थ:

“कर्माधिने” से “दूयते जन्तुरेष:” तक श्रीवरवर मुनि स्वामीजी अपने शिष्य के कल्याण हेतु सोचते है ऐसा बताया गया है। व्याख्या के लिये “मत्वा” शब्द “इति” से जोड़ा गया है। इससे वह श्रीवरवर मुनि स्वामीजी से यह निवेदन करते है कि दु:ख, डरावनी अंधेरी रात का अपनी कृपा से अन्त कर दे।

हिंदी अनुवाद – केशव रान्दाद रामानुजदास

archived in http://divyaprabandham.koyil.org
pramEyam (goal) – http://koyil.org
pramANam (scriptures) – http://srivaishnavagranthams.wordpress.com
pramAthA (preceptors) – http://acharyas.koyil.org
srIvaishNava education/kids portal – http://pillai.koyil.org