उत्तरदिनचर्या – श्लोक – ४-५

श्री:
श्रीमते शठकोपाय नमः
श्रीमते रामानुजाय नमः
श्रीमद्वरवर मुनये नमः

परिचय

श्लोक ३                                                                                                                               श्लोक ६

श्लोक ४-५

तत: कनकपर्यङके तरुणाध्युमणिध्युतौ |
विशालविमलश्र्लक्षणतुंगतूलासनोज्ज्वले ||  

समग्रसौरभोदारनिरंतरदिगंतरे |
सोपधाने सुखासीनं सुकुमारे वरासने ||        

शब्दश: अर्थ

तत:                                                      : उसके पश्चात
तरुणाध्युमणिध्युतौ                               : चमक के साथ जैसे सूर्य कि सुबह कि किरणे
विशालविमलश्र्लक्षणतुंगतूलासनोज्ज्वले  : चौड़ा, दागरहित, चिकना और रुई के गद्दे के जैसे मोटा समग्रसौरभोदारनिरंतरदिगंतरे                 : भगवान को बहुत पुष्प अर्पण करना और उसकी सुगंध चारों दिशावों में                                                                          फैलाना
सोपधाने                                                : उस पर सोने के लिये तकिये
कनकपर्यङके                                          : सुवर्ण गद्दा
सुकुमारे                                                 : बहुत चिकना
वरासने                                                  : शुद्ध घास, हिरण के चमड़े और कपड़ो से बना आसन
सुखासीनं                                               : आराम से विराजमान होना
तम                                                       : उन् मणवाल मामुनि को
चिंतयामि                                              : मे हमेशा ध्यान करता हूँ।

व्याख्या

इस श्लोक में अप्पा श्रीवरवर मुनि स्वामीजी कि प्रशंसा करते है जो बड़े लालित्य होकर सुवर्ण पलंग पर श्रीरामानुज स्वामीजी का ध्यान करते बैठे है जो पञ्चोमपाय निष्ठा के लक्ष है और जो सभी विषयों के उनके सरल, पाडित्यपूर्ण वार्ता से उनके शिष्यों को आनंदित करता है और श्रीवरवरमुनि स्वामीजी जो इधर विराजमान है उनकी सुंदरता और लालित्य को दर्शाता है। हालाकि सन्यासियों को सुवर्ण पलंग पर बैठना निषेध है परन्तु शिष्यों के अनुरोध करने से उन्हें मना भी नहीं किया जा सकता। सन्त सोने, चांदी, ताम्बे, bell metal, पाषाण आदि से बने हुए पात्र में प्रसाद लेना पाप मानते है। मेधति कहते अगर सन्त अपने शिष्य से ऐसी वस्तुए मांगते भी हैं तो उन्हें दु:ख होता है और यहाँ यह कहा गया है कि स्वयं अपने उपयोग के लिये पलंग नहीं मांगना परन्तु शिष्य के आग्रह करने पर उपयोग करना गलत नहीं है। कोई अपने लिये सोने चांदी कि चाह ठुकरा सकता है परन्तु अगर शिष्य कि इच्छा हो तो उपयोग करने से इनकार नहीं कर सकता है। इसलिये श्रीवरवर मुनि स्वामीजी के लिये सोने कि पलंग का उपयोग करना गलत नहीं है।

हिंदी अनुवाद – केशव रान्दाद रामानुजदास

archived in http://divyaprabandham.koyil.org
pramEyam (goal) – http://koyil.org
pramANam (scriptures) – http://srivaishnavagranthams.wordpress.com
pramAthA (preceptors) – http://acharyas.koyil.org
srIvaishNava education/kids portal – http://pillai.koyil.org

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *