पूर्वदिनचर्या – श्लोक – ३

श्री:
श्रीमते शठकोपाय नमः
श्रीमते रामानुजाय नमः
श्रीमद्वरवर मुनये नमः

परिचय

श्लोक  २                                                                                                                                   श्लोक  ४

श्लोक ३

सुधानिधिमिव स्वैरस्वीकृतोदग्रविग्रहम ।
प्रसन्नार्क प्रतिकाश प्रकाश परिवेष्टितम ॥ ३ ॥

 

शब्दार्थ

सुधानिधिमिव                                      – क्षीरसागर कि तरह श्वैत रंग में प्रतीत होता है ।
स्वैरस्वीकृतोदग्रविग्रहम                        – सुन्दर शरीर जिसे उन्होने स्वयं स्वीकारना चाहा ।
प्रसन्नार्क प्रतिकाश प्रकाश परिवेष्टितम – वरवरमुनी स्वामीजी चमकदार सूर्य की तरह है जिसका अनुभव                                                                                  बिना किसी भ्रम निवृत्ति के इन नेत्रों से होता है ।

शिष्य का कर्तव्य है कि सदैव आचार्य के दिव्य मंगल विग्रह का श्रीचरणों से लेकर मुखारविन्द तक ध्यान करते रहना और साष्ठांग करने में रुचि रखना । इसीके अनुसार देवराज स्वामीजी अपने आचार्य श्री वरवरमुनि स्वामीजी के दिव्य मंगल विग्रह का वर्णन कर रहे है । वरवरमुनि स्वामीजी अनंतालवान स्वामीजी के अवतार माने जाते है , जिनका दिव्य मंगल विग्रह अत्यन्त सफ़ेद है , और वे सफ़ेद दिव्य मंगल विग्रह को क्षीरसागर कि तरह समझ रहे है । क्षीरसागर अत्यन्त सफ़ेद न होने के कारण सूर्य के तेज को श्रीवरवरमुनि स्वामीजी के दिव्य मंगल विग्रह के साथ किया जाता है । सूर्य का प्रकाश अत्यन्त उग्र और प्रखर है , इसको मिटाने के लिये सूर्य के साथ विशेषण के रूप में प्रसन्न शब्द का उपयोग किया जाता है । प्रसन्न शब्द स्पष्ट और ताजगी को सूचित करता है , जिस प्रकार सूर्य उभरता है उसी तरह श्री वरवरमुनि स्वामीजी आलंकारीक होते है ।

archived in http://divyaprabandham.koyil.org
pramEyam (goal) –
http://koyil.org
pramANam (scriptures) –
http://srivaishnavagranthams.wordpress.com
pramAthA (preceptors) – http://acharyas.koyil.org
srIvaishNava education/kids portal – http://pillai.koyil.org

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *