Daily Archives: November 14, 2014

ज्ञान सारं

Published by:

श्रीः
श्रीमते शटकोपाय नमः
श्रीमते रामानुजाय नमः
श्रीमद् वरवरमुनय् नमः

मूल व्याख्यान: श्री वरवरमुनी स्वामीजी, तमिल अनुवाद: श्री . वे. वी. के. श्रीनिवासाचारी स्वामीजी.

e-book: http://1drv.ms/1LnhQWd

 arulalaperumalemperumanar-svptrश्री देवराज मुनि स्वामिजिश्रीविल्लिपुत्तूर्

mamunigal-vanamamalai-closeupश्री वरवरमुनि स्वामिजितोताद्रि

यह श्री देवराजमुनी स्वामीजी के ज्ञानसारम्-प्रमेयसारम् पर आधारित श्री वरवरमुनी स्वामीजी के व्याख्यान का हिन्दी भाषांतर है जो तमिल में श्री उभय वेदान्त विद्वान व्ही. के. श्रीनिवासाचारी ने लिखा है जो श्री देवराजमुनी स्वामीजी के वंशज हैं और श्रीविल्लीपुत्तुर में बिराजते हैं।

कीर्ती मूर्ति श्री श्रीनिवासाचारी स्वामीजी ३१ वे पट्टम् श्री उभय वेदान्त विद्वान श्री तिरुमलै विंजीमूर कुप्पन ऐयंगार (श्री कुप्पुस्वामी ताताचार) स्वामीजी के कुमार हैं।

श्री श्रीनिवासाचारी स्वामीजी निर्मित तमिल ग्रंथ २००३ पांगुनी-उत्तीरादी में श्री उ. वे. कुप्पुस्वामी ताताचार स्वामीजी के १०० वे नक्षत्र उत्सव पर प्रकाशित हुआ था।

मूल तमिल ग्रंथ और उसके अङ्ग्रेज़ी तथा इतर भाषाओंके रूपांतरित ग्रंथोंका प्रचार श्री . वे. श्रीनिवासाचारी स्वामीजी के कुमार विद्वान श्री . वे. वेंकटाचारी स्वामीजी (जो ३३ वे पट्टम् को सुशोभित कर रहे हैं) के अनुमति से हो रहा है। श्री . वे. वेंकटाचारी स्वामीजी श्रीविल्लीपुत्तूर मठ में बिराजते हैं और श्री कुप्पन एयङ्गार मंडप श्री विल्लीपुत्तुर में श्री श्रीनिवास सन्निधि तथा श्री देवराजमुनी सन्निधि में नित्य कैंकर्य करते हैं।

हिंदी अनुवाद – केशव रान्दाद रामानुजदास

अन्य भाषा

ஞான ஸாரம்

Published by:

ஸ்ரீ:
ஸ்ரீமதே சடகோபாய நம:
ஸ்ரீமதே ராமாநுஜாய நம:
ஸ்ரீமத் வரவரமுநயே நம:

arulalaperumalemperumanar-svptrஅருளாளப் பெருமாள் எம்பெருமானார்ஸ்ரீவில்லிபுத்தூர்

mamunigal-vanamamalai-closeupமணவாள மாமுனிகள்வானமாமலை

புத்தகம் (e-book): http://1drv.ms/1G7NLmt

வ்யாக்யான மூலம் ஸ்ரீமத் மணவாள மாமுநிகளாலும், தமிழில் ஸ்ரீ உ.வே. V.K. ஸ்ரீநிவாஸாசாரியார் அவர்களாலும் எழுதப்பட்டது. இந்த க்ரந்தம் ஸ்ரீ அருளாள பெருமாள் எம்பெருமானார் திருவம்சத்தில் அவதரித்த ஸ்ரீவில்லிபுத்தூர் ஸ்ரீ உ.வே. V.K. ஸ்ரீநிவாஸாசாரியார் ஸ்வாமியால் தமிழில் விரிவுரை இயற்றப்பட்டது.

vk-srinivasacharyar

கீர்த்தி மூர்த்தி ஸ்வாமி ஸ்ரீநிவாஸாசாரியார் 31ஆம் பட்டம் ஸ்ரீமத் உபயவேதாந்த வித்வான் திருமலை விஞ்சிமூர் குப்பன் ஐயங்கார் (குப்புஸ்வாமி தாத்தாசார்) ஸ்வாமியின் திருக்குமாரர் ஆவார்.

இந்த தமிழ் வ்யாக்யானம் ஸ்ரீ உ.வே. குப்புஸ்வாமி தாத்தாசாரின் 100ஆவது திருநக்ஷத்திரமான 2003 பங்குனி உத்திரட்டாதி அன்று அச்சிடப்பட்டது.

ஸ்ரீ உ.வே. ஸ்ரீநிவாஸாசாரியாரின் திருக்குமாரரும், இப்பொழுது ஸ்ரீவில்லிபுத்தூர் திருமாளிகையில் 33ஆம் பட்டம் அலங்கரிப்பவரும், ஸ்ரீ குப்பன் அய்யங்கார் மண்டபம் என்று ப்ரசித்தி பெற்ற திருவேங்கடமுடையான் ஸ்ரீ அருளாளப் பெருமாள் எம்பெருமானார் சன்னதியில் தொடர்ந்து பல கைங்கர்யங்களைச் செய்து கொண்டிருப்பவருமான, வித்வான் ஸ்ரீ உ.வே. V.S. வேங்கடாசாரியார் ஸ்வாமி அவர்களின் மங்களாசாசனத்துடன் இத்தை தமிழிலும் மற்ற மொழிகளிலும் வெளியிடுகின்றோம்.

மற்ற மொழிகள்:

gyAna sAram

Published by:

srI:
srImathE satakOpAya nama:
srImathE rAmAnujAya nama:
srImadh varavaramunayE nama:

 arulalaperumalemperumanar-svptraruLALa perumAL emperumAnArsrIvillipuththUr

mamunigal-vanamamalai-closeupmaNavALa mAmunigaLvAnamAmalai

e-book: http://1drv.ms/1CVeAsr

This is an English translation of the thamizh prose given for “srI aruLALamAmunigAL’s gyAna sAram – pramEya sAram based on srI maNavALA mAmunigaL’s vyAkyAnam’, as written due to his nirhEthuka krupai by srI U.Ve. Vidwan V.K. Srinivasachariar swamy of sri aruLALaperumAL emperumAnAr thiruvamsam at srIvilliputhUr.

vk-srinivasacharyar

kIrthi mUrthy Swami Srinivasachariar is a kumArar (son) of 31st pattam srImadh ubhayavEdhAntha vidwan thirumalai vinjimUr kuppan iyengAr (kuppuswAmy thAthAchAr) swamy.

The thamizh prose by vidwan V.K. Srinivasachariar was published in 2003 panguni-uthrattAdhi, as part of 100th year celebration of Sri U.Ve.kuppuswAmy thAthAchAr.

Text from the original thamizh book, and this translation in English and other languages, are being propagated with permission and blessings of the srI U.Ve. V.K. Srinivasachariar’s kumArar, vidwan srI U.Ve. V.S. Venkatachariar swamy who is decorating 33rd pattam residing at srIvilliputhur thirumALigai, and doing continuous kainkaryams at srinivAsar sannidhi and aruLaLa perumAL EmperumAnAr (aruLALAmAmungaL) sannidhi that are at srI kuppan iyengAr maNdapam in srIvilliputhur.

English translation – santhAnam rAjagOpAlan rAmAnuja dhAsan.

Other languages: